भारतीयों के बीच खेल और सिनेमा दो पसंदीदा मनोरंजन के साधन है. इसी के चलते अब इन दोनो का मिश्रण भी हो रहा है. एक तरफ खेलों पर आधारित फिल्में बन रही हैं, तो दूसरी तरफ कई फिल्म स्टार अब कबड्डी, फुटबाल या क्रिकेट टीमें खरीदकर खेलते हुए भी धन कमा रहे हैं. इतना ही नहीं अब तो यह अभिनेता अपनी टीम के लिए स्पांसर्स जुटाने के लिए ‘बिडिंग’ यानी कि बोली तक लगवाने लगे हैं.

जी हां! 23 जनवरी से शुरू हो रहे छठे ‘‘सेलीब्रिटी क्रिकेट लीग’’ के मैच में आठ टीमें है, लेकिन इसकी एक टीम ‘‘भोजपुरी दबंग’’ने पहली बार अपनी टीम के लिए स्पांसर्स जुटाने के लिए स्पांसर्स के बीच बोली लगवाकर एक करोड़ पैंसठ लाख रूपए जुटाकर एक नया रिकार्ड बना डाला. यह पहला मौका है, जब ‘आईपीएल’ या सरकारी क्रिकेट संस्थाओं से अलग किसी फिल्म कलाकार की टीम ने अपनी टीम के लिए स्पांसर्स जुटाने के लिए बोली लगवायी हो.

‘‘भोजपुरी दबंग’’टीम ने बोली लगवाकर स्पांर्सस जुटाने का काम भले ही किया हो, मगर इस बोली को लेकर बालीवुड में कई तरह की चर्चाएं गर्म हैं. वास्तव में‘‘भोजपुरी दबंग’’टीम के मालिक भोजपुरी फिल्मों के सुपर स्टार अभिनेता व गायक मनोज तिवारी तथा सोहेल खान हैं. इतना ही नहीं मनोज तिवारी इन दिनों भारतीय जनता पार्टी के दिल्ली से सांसद भी है.‘‘भोजपुरी दबंग’’ के कैप्टन मनोज तिवारी तथा उप कैप्टन भोजपुरी फिल्मों के चर्चित अभिनेता दिनेशलाल यादव निरहुआ हैं.

बालीवुड में चर्चाएं गर्म है कि मनोज तिवारी ने सांसद होने का फायदा उठाते हुए अपनी ‘‘भोजपुरी  दबंग’’टीम के लिए बोली लगाकर स्पांसर्स जुटाकर नया इतिहास रचने का कारमाना कर दिखाया है. अन्यथा बालीवुड के स्टारों की टीम या चेन्नई की दक्षिण भारतीय कलाकारों की  टीम भी पिछले छह साल के दौरान बोली लगवाकर स्पांसर्स जुटाने का साहस नहीं जुटा सकी. मनोज तिवारी दिल्ली से सांसद हैं और ‘‘भोजपुरिया दबंग’’की टाइटल स्पांसर्सशिप 88 लाख रूपए देकर दिल्ली की भवन निर्माण  कंपनी ‘‘रेवांता ग्रुप’ ’ने खरीदा है.

बालीवुड की इन चर्चाओं को लेकर जब मनोज तिवारी से बात हुई,तो मनोज तिवारी ने कहा-‘‘हमने एक नया इतिहास रचा है. पहली बार ऐसा हुआ है, जब ‘सेलीब्रिटी क्रिकेट लीग’’की किसी टीम ने पूरी पारदर्शिता के साथ बोली लगाकर अपनी टीम के लिए स्पांसर्स जुटाए हैं. इसलिए लोग तरह तरह की बातें कर रहे हैं. मै सांसद होने का फायदा लेना चाहता, तो बोली लगाने का कार्यक्रम दिल्ली में रखता न कि मुंबई में. हमने अपनी टीम के लिए स्पांसर्स जुटाने के लिए बोली लगाने का कार्यक्रम मुंबई में रखा और इस कार्यकम में हमने मुंबई के कई पत्रकारों व भोजपुरी इंडस्ट्री की बड़ी बड़ी हस्तियों को भी बुलाया था. सब कुछ सभी के सामने हुआ. हां! मैं यह मान सकता हूं कि मेरे फिल्म अभिनेता होने की वजह से हमारी टीम को फायदा मिला होगा. सांसद के रूप में हम कोई फायदा उठाने का प्रयास नहीं करते.’’

Tags: