सरिता विशेष

इन दिनों मंदिर राजनीति की कमान संभाल रहे भाजपा नेता सुब्रमण्यम स्वामी ने अनूठा फार्मूला दिया है कि मुसलमान 3 मंदिर हमें दे दें बदले में 39,997 मसजिद ले जाएं. दिल्ली विश्वविद्यालय में राममंदिर निर्माण पर  दो दिवसीय सेमिनार संपन्न करा देने वाले स्वामी ने जता दिया है कि धर्मस्थल एक उत्पाद की तरह होते हैं जिन का विनिमय भी किया जा सकता है.

भगवा खेमा किस जुगाड़ में है, यह हर कोई समझ रहा है. भाजपा कमजोर हो रही है, इसलिए मंदिर को ले कर आक्रामक होती जा रही है. उसे लगता है कि ऐसे में सत्ता में रहने के लिए राम का सहारा ही काम आएगा. ऐसे में तय है स्वामी जैसे नेता नरेंद्र मोदी की लुटिया डुबो कर ही दम लेंगे जिन के लिए लोकतंत्र भी धर्म की तरह एक मजाक है.