मैं 23 वर्षीय युवती हूं. मेरी समस्या यह है कि मैं एक ऐसे लड़के से प्यार करती हूं जो विवाहित है और उस के 3 बच्चे हैं. वह भी मुझ से बहुत प्यार करता है. हम दोनों विवाह करना चाहते हैं पर हमारे मातापिता को यह विवाह मंजूर नहीं है क्योंकि हम दोनों अलगअलग जाति के हैं. हम एकदूसरे के बिना रहने की कल्पना नहीं कर सकते लेकिन साथ ही अपने मातापिता की इच्छा के खिलाफ भी नहीं जाना चाहते. आप ही बताएं, हम क्या करें?

विवाहित, 3 बच्चों के पिता से प्यार कर के आप नादानी कर रही हैं. जो पुरुष अपने परिवार, पत्नी के साथ धोखा कर सकता है, इस बात की गारंटी नहीं है कि वह आप के प्रति वफादार रहेगा और आगे किसी और के प्यार के चक्कर में नहीं पड़ेगा.

आप अभी युवा हैं, आप के पास और बेहतर विकल्प हो सकते हैं. इसलिए मातापिता की इच्छा मान कर इस विवाह के बारे में भूल जाइए और एक सही जीवनसाथी की तलाश कीजिए या फिर उस प्रेमी को कहें कि वह पहले अपनी पत्नी से तलाक ले, फिर आप के साथ प्रेम करे. तलाक लेना हंसीखेल नहीं है.

मैं 35 वर्षीय विवाहित पुरुष हूं. शादी को 10 वर्ष हो चुके हैं. मेरा एक बेटा भी है. मैं अपनी पत्नी से बहुत परेशान हूं. वह मुझ से गलत ढंग से बात करती है. संभोग के समय साथ नहीं देती है, हमेशा पैसे की बात करती रहती है. उसे सिर्फ पैसे से मतलब है. इसी बीच मेरे पास एक लड़की का फोन आने लगा है. 20 वर्षीय यह लड़की एक अमीर खानदान से है और 12वीं कक्षा में पढ़ रही है. हालांकि मैं भी उस से प्यार करने लगा हूं. मैं ने उसे अभी तक देखा नहीं है. वह मुझे मिलने के लिए अपने घर बुला रही है. मैं क्या करूं?

कई बार पत्नी किसी विशेष कारण से पति से शादी के समय से ही नाराज रहती है, इस का कारण ढूंढ़ना आसान नहीं है. पत्नी से बारबार खुल कर बात करें ताकि कुछ तो पता चले. जहां तक 20 वर्षीय लड़की से प्यार की बात है, यह कृत्य बेमतलब का है. सिर्फ फोन पर बात कर के बिना देखेजाने आप को उस से प्यार हो गया. वह लड़की तो सिर्फ मजे ले रही है पर आप तो समझदारी की बात कीजिए.

 

मैं 19 वर्षीय अविवाहित लड़की हूं और पिछले 2 वर्षों से एक लड़के से प्यार करती हूं. हमारे बीच शारीरिक संबंध भी बन चुके हैं. लेकिन मेरे घर वाले मेरा विवाह कहीं और कर रहे हैं. मैं अपने विवाह को ले कर बहुत परेशान हूं. सलाह दीजिए, मैं क्या करूं?

आप अपने मातापिता को अपने प्रेम संबंधों के बारे में बताएं. यदि वह लड़का इस काबिल नहीं कि मातापिता उस से ही आप का विवाह करा सकें तो यह संबंध भूल जाएं. विवाहपूर्व शारीरिक संबंध बनाना गलत है. पर विवाह के बाद अपने विवाहपूर्व संबंधों की चर्चा कभी भी किसी से न करें, खासकर पति से.

 

मैं 21 वर्षीय विवाहित महिला हूं और पिछले 8 वर्षों से 1 लड़के से प्यार करती हूं. वह भी मुझे बहुत प्यार करता है. मैं उस के बिना जी नहीं सकती. अगर एक दिन भी उस से बात नहीं करती हूं तो परेशान हो जाती हूं. हमारे शारीरिक संबंध भी हैं और 1 महीने का बेटा भी है. वह यह नहीं बताता कि वह विवाहित है या नहीं. इसलिए हम दोनों विवाह भी नहीं कर सकते. मैं अपने पति को बिलकुल पसंद नहीं करती और न ही उन से शारीरिक संबंध बनाना मुझे अच्छा लगता है. वह मुझ से और बच्चे दोनों से प्यार करता है लेकिन मुझे मेरे पति के साथ देख नहीं सकता. साथ ही, वह यह भी कहता है कि मैं अपनी जिंदगी खराब न करूं और अपने पति के साथ ही रहूं. जबकि मैं अपनी जिंदगी से खुश नहीं हूं और सोचती हूं कि अपने पति को तलाक दे दूं. क्या ऐसा करना ठीक होगा? सही सलाह दीजिए.

जब आप का विवाहपूर्व अफेयर था तो आप ने किसी अन्य के साथ विवाह कर के उस की जिंदगी क्यों बरबाद की? यह आप की सब से बड़ी गलती थी. और अब जब आप का विवाह हो चुका है तो अब भी आप पूर्व प्रेमी से संबंध बनाए हुए हैं और पसंदनापसंद की बात कर रही हैं. आप का प्रेमी भी अजीब है जो आप को पति के साथ भी नहीं देख सकता और साथ ही आप को उन के साथ ही रहने को भी कह रहा है. आप उस से साफसाफ दोटूक शब्दों में बात करें कि आखिर वह चाहता क्या है?

उस की बातों से लग रहा है कि वह आप से मजे ले रहा है. इसलिए उस से संबंध तोड़ लेने में ही समझदारी होगी और पति से तलाक की बात भी दिमाग से निकाल दें बल्कि पति के साथ ही खुश रहने के बारे में सोचें.

 

मैं 28 वर्षीय कामकाजी युवती हूं और अपने से 3 वर्ष छोटे युवक से प्यार करती हूं. शुरुआत में उस ने मुझ से कहा था कि वह मुझ से विवाह करेगा लेकिन अब मैं जब भी विवाह के बारे में कोई भी बात करती हूं तो वह बेरुखी दिखाता है और परिवार वालों की रजामंदी की बात करता है. मुझे लग रहा है कि वह मुझ से शादी नहीं करना चाहता, मुझे धोखा दे रहा है. क्या मुझे उस से रिश्ता तोड़ लेना चाहिए?

आप की बातों से लगता है कि उस लड़के का आप के प्रति आकर्षण मात्र था, प्यार नहीं. वह आप के साथ सिर्फ टाइम पास कर रहा था. इसलिए उसे भूल जाने और उस से रिश्ता तोड़ लेने में ही आप की भलाई है. जहां तक विवाह के लिए पारिवारिक रजामंदी की बात है तो वह उस का आप से दूरी बनाने का बहाना मात्र है. इसलिए समय रहते संभल जाइए, यही आप के पक्ष में होगा.