कारोबार सुगमता वर्तमान आर्थिक परिवेश में महत्त्वपूर्ण बन गई है. इस की वजह बड़ा निवेश है. निवेशक उन्हीं देशों या राज्यों में पैसा लगाने को उत्साहित रहते हैं जहां कारोबार शुरू करते और फिर उसे चलाने में बेवजह की अड़चनों व औपचारिकताओं का सामना नहीं करना पड़े.

वैश्विक कंपनियां भी दुनिया के उन्हीं देशों में निवेश की इच्छुक रहती हैं जहां सुगमता से कारोबार शुरू किया जा सके. इस क्रम में विश्व रैंकिंग में भारत की स्थिति में जबरदस्त सुधार हुआ है. इधर, देश में भी इस तरह की रैंकिंग राज्यों के आधार पर होती है.

पिछले दिनों विश्व बैंक तथा औद्योगिक नीति एवं संवर्धन विभाग ने इस संबंध में सर्वेक्षण कराया और देश के विभिन्न राज्यों की रैंकिंग में आंध्र प्रदेश सुगम कारोबार के अवसर उपलब्ध कराने वाले राज्यों में शीर्ष स्थान पर रहा. आंध्र को देश में तकनीकी रूप से अग्रणी राज्य के रूप में देखा गया है.

अपने पिछले कार्यकाल में मुख्यमंत्री चंद्रबाबू नायडू इस की वजह से बहुत लोकप्रिय रहे और पूरे देश में उन का उदाहरण दिया जाता था. अब सुगम कारोबार की सुविधा वाले राज्यों में आंध्र प्रदेश पहले स्थान पर आ गया है. इस क्रम में तेलंगाना दूसरे और हरियाणा तीसरे स्थान पर रहे. मेघालय सूची में आखिरी स्थान पर है. सूची में चौथा स्थान झारखंड, 5वां गुजरात, उस के बाद छत्तीसगढ़, मध्य प्रदेश, कर्नाटक, राजस्थान हैं. 10वें स्थान पर पश्चिम बंगाल है.