हम अपनी रोजमर्रा की जरूरतों के लिए लैपटौप और स्मार्टफोन का भले ही इस्तेमाल करते हों लेकिन जब बात दुनिया की जरूरत की आती है या कहें कि जब करोड़ों लोगों की जरूरत को कोई एक कंप्यूटर पूरा करे तो वह सुपर कंप्यूटर बन जाता है. सुपर कंप्यूटर एक ऐसा कम्प्यूटर है जो आम जरूरतों को पूरा करने वाले किसी भी कंप्यूटर से हजारों, लाखों गुना ज्यादा क्षमता और स्पीड वाला होता है.

गूगल से ले कर फेसबुक और यूट्यूब से ले कर ट्विटर तक सभी सर्विसेज़ आज पूरी दुनिया की धडकनों में बसती हैं. आप को यह मालूम होना चाहिए कि एकसाथ करोड़ों लोगों को दी जाने वाली ये डिजिटल सर्विसेज किसी छोटेमोटे कम्प्यूटर से नहीं, बल्कि सुपरकम्प्यूटर से औपरेट होती हैं.

टौप 500 सुपरकम्प्यूटरों की सूची के टौप 100 में शामिल रहे 2 भारतीय सुपरकम्प्यूटरों की रैंकिंग ताज़ा सूची में नीचे आ गई है. वहीँ, इस बार भारत के 4 सुपर कम्प्यूटर ही टौप 500 में जगह बना सके, जबकि पिछली सूची में इन की तादाद थी.

भारत के सब से तेज प्रदर्शन वाले कंप्यूटर ‘प्रत्यूष’ की स्थिति जून के 39 से घट कर अब 45वें नंबर पर आ गई है. प्रत्यूष को पुणे स्थित इंडियन इंस्टिट्यूट औफ़ ट्रौपिकल मीटियोरोलोजी (आईआईटीएम) में इनस्टौल किया गया है.

वहीँ, नौएडा स्थित नेशनल सेंटर फौर मीडिया एंड वेदर फोरकास्टिंग (एनएसएमडब्लूएफ) में इनस्टौल किए गए सुपरकम्प्यूटर ‘मिहिर’ की रैंकिंग 66 से घट कर 73 पर आ गई.

आईआईटीएम के अनुसार, प्रत्यूष दुनिया में वेदर एंड क्लाइमेट यानी मौसम और जलवायु रिसर्च के काम में लगाया गया चौथा सब से तेज सुपरकम्प्यूटर है.

अर्थ साइंसेज मिनिस्ट्री यानी भू विज्ञान मंत्रालय के एक उच्च अधिकारी का कहना है, ‘हम ने देश में अपनी वेदर और क्लाइमेट सर्विसेज को सपोर्ट देने के लिए ये सिस्टम खरीदे थे. इस कम्प्यूटर सिस्टम के ज़रिए हम वेदर और क्लाइमेट सर्विसेज में कई सुधार कर सकते हैं. हम साल 2021 तक इस सिस्टम को और अपग्रेड करेंगे. ’

सुपरकम्प्यूटरों से मानसून, मौसम की प्रतिकूल स्थितियों, साइक्लोन और भूकंप का अनुमान लगाने में मदद मिलती है. एयर क्वालिटी, लाइटनिंग, फिशिंग आदि के बारे में भी ये उपयोगी होते हैं. टौप 500सुपरकम्प्यूटरों की सूची में 2 और भारतीय प्रविष्टियों में एक, सोफ्ट्वेयर कम्पनी में लगाई गई लेनोवो की मशीन 338वें नंबर पर और दूसरी सुपरकम्प्यूटर एजुकेशन एंड रिसर्च सेंटर की एक मशीन 486वें स्थान पर रही. यह टौप 500 सूची का 52वां संस्करण था.

टौप 500 सुपरकम्प्यूटर की ताज़ा सूची में यूएस डिपार्टमेंट एंड एनर्जी सुपरकम्प्यूटर्स के 5 सुपरकम्प्यूटर टौप 10 पोजीशंस में रहे. इन में ओक रिज नेशनल लेबोरेटरी का समिट और लौरेंस लिवरमोर नेशनल लेबोरेटरी का सिएरा शामिल हैं.

उधर, चीन के 2 सुपरकम्प्यूटरों के अलावा स्विट्ज़रलैंड, जापान और जर्मनी की एकएक मशीनें टौप 10में हैं.

मालूम हो कि वर्ष 2015 में भारत ने नेशनल सुपरकम्प्यूटर मिशन का एलान किया था. इस का मकसद देश में विभिन्न शैक्षिक और वैज्ञानिक संस्थानों में 70 से ज्यादा सुपरकम्प्यूटर लगाना है. इन में से पहली 1. 34 पेटाफ्लौप मशीन इस साल के आखिर तक आईआईटी खड़गपुर में लगाए जाने की संभावना है.

Tags:
COMMENT