इंजीनियर की नौकरी छोड़ कर संकेत कुमार जैविक खाद बनाने और उस के प्रति किसानों को जागरूक करने की मुहिम चला रहे हैं. उन की सलाह पर सैकड़ों किसान जैविक खाद का इस्तेमाल करने लगे हैं. रासायनिक खादों से खेत और खेती को होने वाले नुकसान और जैविक खाद के फायदे बताने के लिए वे किसानों के बीच लगातार गोष्ठी, बैठक और जागरूकता शिविरों का आयोजन करते रहते हैं. बिहार के समस्तीपुर जिले के मुस्तफापुर पंचायत के रहने वाले युवा संकेत कुमार ‘ग्रीन वसुधा’ संगठन और जैविक प्रसार केंद्र बना कर किसानों के बीच जैविक खाद का प्रचारप्रसार कर रहे हैं.

Tags:
COMMENT