स्थिति की गम्भीरता को भांपते हुए विजय सिंह ने दोनों की शादी के लिए हामी भर दी. शरद तो उन्हें पहले ही बहुत पसन्द था, मगर दामाद के रूप में उन्होंने अभी तक कोई कल्पना नहीं की थी.
'सरिता' पर आप पढ़ सकते हैं 10 आर्टिकल बिलकुल फ्री , अनलिमिटेड पढ़ने के लिए Subscribe Now