उस का आग्रह देख कर पता नहीं क्यों वह मना नहीं कर पाईं...उस बच्चे के साथ 2 घंटे कैसे बीत गए पता ही नहीं चला. इस बीच न तो वह रोया न ही उस ने विशेष परेशान किया. नमिता ने उस के सामने अपने पोते के छोडे़ हुए खिलौने डाल दिए थे, उन से ही बस खेलता रहा. उस के साथ खेलते और बातें करते हुए उन्हेें अपने पोते विक्की की याद आ गई. वह भी लगभग इसी उम्र का था...उस बच्चे में वह अपने पोते को ढूंढ़ने लगीं.

Tags:
COMMENT