समधिन निर्मला के व्यवहार से दिवाकर इतने प्रभावित हुए थे कि रूपा को अपने बेटे के लिए झट पसंद कर लिया. लेकिन विवाह के बाद जब निर्मला का ऐसा रूप उन के सामने आया कि वह हक्केबक्के रह गए.

समधिन की बात सुन कर दिवाकर सकते में आ गए. नागिन की तरह फुफकार कर निर्मला बोली, ‘‘आप लोग मेरी बेटी को तरहतरह से तंग करते हैं. मैं ने बेटी का ब्याह किया है, उसे आप के हाथों बेचा नहीं है. मेरी बेटी अब आप के घर नहीं जाएगी.’’

दिवाकर ने पिछले साल ही अपने बड़े बेटे मुकुल की शादी पटना से सटे इस कसबे के निवासी गुलाबचंद की बड़ी बेटी रूपा से की थी. लड़की देखने आए तो गुलाबचंद और निर्मला के व्यवहार से इतना प्रभावित हुए थे कि आननफानन में रिश्ते के लिए ‘हां’ कर दी थी.

रूपा भी साधारण तौर पर नापसंद करने लायक नहीं थी. साफ रंग, छरहरा शरीर, नैननक्श भी ठीक ही थे. उस समय वह बीए की परीक्षा की तैयारी कर रही थी. दिवाकर को भी पढ़ीलिखी लड़की की ही तलाश थी सो रूपा हर तरह से उन लोगों को जंच गई. मुकुल को भी पसंद आई.

शादी बिना दानदहेज के बड़ी धूमधाम से हुई. बाजेगाजे और पूरे वैवाहिक कार्यक्रम की वीडियोग्राफी  हुई. रूपा के ससुराल आने पर दिवाकर ने एक शानदार प्रीतिभोज का आयोजन किया था.

दिवाकर को इस रिश्ते के लिए सब से अधिक लड़की की मां के व्यवहार और उन्मुक्तता ने प्रभावित किया था. कसबे के माहौल में ऐसी गृहिणियां भी हो सकती हैं, दिवाकर की कल्पना में भी नहीं था. गुलाबचंद दब्बू किस्म के मर्द लगे पर ऐसा ही होता है. दब्बू किस्म के मर्दों की पत्नियां मुखर होती हैं.

लेकिन दिवाकर को निर्मला से इस तरह से बातचीत या ऐसे तेवर की उम्मीद नहीं थी.

पिछले 2 महीने से नाराज हो कर आने के बाद रूपा मायके में थी. दिवाकर ने सोचा था पटना का अपना काम निबटाने के बाद समधी से मिल कर रूपा की विदाई के बारे में बात कर लेंगे. सीधे लौट जाने पर गुलाबचंद और निर्मला को बुरा लगने वाली बात होती. लेकिन समधिन के तीखे स्वर और तीखी बातों ने दिवाकर को बेचैन कर दिया. असहजता महसूस करते हुए बोले, ‘‘क्या कह रही हैं आप, समधिनजी?’’

‘‘मैं ठीक कह रही हूं दिवाकरजी,’’ निर्मला बोली, ‘‘आप ने मेरी बेटी को ले जा कर पिंजरे में बंद कर दिया. ऊपर से कई तरह की पाबंदियां कि यह मत करो, वैसा मत पहनो, ऐसे मत खाओ, उधर मत जाओ. वह क्या जानवर है जो गाय समझ कर गोशाला में खूंटे से बांध दी? इस पर हमें ही दोषी ठहराते हैं कि बच्चों पर हमारा कंट्रोल नहीं है.’’

दिवाकर को अब समझ में आया कि समधिन का गुस्सा उन की उस बात पर है जो उन्होंने गुलाबचंद से, जब वह रूपा को लाने गए थे, कही थी.

शादी के बाद ससुराल आई रूपा की चालढाल और व्यवहार से दिवाकर संतुष्ट नहीं थे. रूपा घर के अदब व कायदों को मानने को राजी नहीं थी. वह उसे बंदिश लगते थे. दिवाकर रूढि़वादी नहीं थे परंतु अमर्या- दित आजादी और खुलापन उन्हें पसंद नहीं था.

मुकुल की मां की सोच बहू के बारे में पारंपरिक थी. बहू सुशील और मृदुभाषी हो. घरगृहस्थी का काम जाने, बड़ों का सम्मान करे, हमेशा हंसती- मुसकराती रहे और अपने व्यवहार से घर में खुशियां बिखेरे.

रूपा उन की बहू की उस तसवीर से बिलकुल अलग थी. वह देर रात तक टीवी पर सिनेमा व धारावाहिक देखती. देर से सो कर उठती. उठने के बाद उसे बेड टी चाहिए थी. रसोई का नाम सुनते ही उस का सिर दर्द करने लगता. वह सिर्फ मुकुल को अपना समझती थी. घर के बाकी किसी सदस्य से उसे कोई मतलब नहीं था.

दिवाकर ने रूपा को बेटी की तरह मानते हुए हर तरह से समझाने की कोशिश की कि बेटी, यह तुम्हारा घर है, तुम इस घर की बड़ी बहू हो. घर की जिम्मेदारियों को समझो. लेकिन रूपा में जरा भी परिवर्तन नहीं हुआ. दिवाकर को लगा कि उन्होंने निर्मला की बाहरी चमक से प्रभावित हो कर भारी भूल की, भीतर झांक कर तह तक जाने का प्रयास नहीं किया.

फिर भी दिवाकर को विश्वास था कि रूपा समय के साथ धीरेधीरे इन बातों और अपनी जिम्मेदारियों को समझने लगेगी. आखिर बच्ची ही तो थी. उस से इतनी जल्दी प्रौढ़ता की उम्मीद करना भूल होगी. फिर जिस घर में उन्मुक्तता का वातावरण हो और जहां मातापिता ने अपनी संतानों को जिम्मेदारियों का पाठ न पढ़ाया हो, बेटियों को बेटी और बहू का अंतर न समझाया हो वहां ऐसा होना बहुत स्वाभाविक है. इस में दोष रूपा का नहीं उस के मातापिता का है.

इसी बीच एक घटना घट गई. रूपा के छोटे भाई राजेश ने मां के डांटने पर अपने कपड़ों पर तेल छिड़क कर आग लगा ली थी. सतर्कता के कारण वह बच गया लेकिन यह भयंकर हादसा हो सकता था.

गुलाबचंद रूपा को लेने आए तो बातों ही बातों में दिवाकर कह बैठे, ‘‘भाई साहब बुरा मत मानिएगा, आप के घर में बच्चों पर आप का नियंत्रण नहीं है.’’

असल में दिवाकर का इशारा रूपा की ओर था जिसे समझा कर वह हार चुके थे और हर तरह का प्रयत्न कर के भी परिवार की धारा में नहीं ला पा रहे थे.

यह बात गुलाबचंद निर्मला को कह देंगे और वह इस का इतना बुरा मान जाएंगी दिवाकर ने सोचा भी नहीं था. लेकिन निर्मला ने जब तेवर और तैश से इसे दोहराया तो जैसे दिवाकर का आत्मसम्मान जाग उठा. क्षण भर को यही खयाल जागा कि यह औरत उन्हें भी गुलाबचंद समझती है क्या. गुलाबचंद उस की धौंस सह सकते हैं. उन पर क्यों धौंस जमाएगी यह औरत?

विवाद वहीं उत्पन्न होता है जहां व्यक्ति सीमा रेखा का उल्लंघन करता है. दिवाकर को लगा निर्मला अपनी पारिवारिक सीमा लांघ कर उन की पारिवारिक व्यवस्था में दखल देने की ज्यादती कर रही है. वह बोल उठे, ‘‘सचमुच आप के घर में किसी पर किसी का नियंत्रण नहीं है. सभी अपने मन के हैं. बड़ों की इज्जत की किसी को परवा नहीं है. राजेश ने आग लगा ली. गनीमत थी सिर्फ थोड़ा सा पैर जला. बड़ा हादसा हो जाता तो क्या होता?’’

दिवाकर ने यह भी समझाने के लिए कहा था परंतु निर्मला को यह बात उस की सत्ता को चुनौती और व्यंग्य सी लगी. वह तिलमिला उठी.

उसी समय गुलाबचंद वहां आ गए. दिवाकर ने गुलाबचंद से कहा, ‘‘भाई साहब, मैं पटना अपने किसी काम से आया था तो आप लोगों से मिलने भी चला आया. रूपा को आए 2 महीने हो गए हैं. आप कब उसे विदा करेंगे?’’

‘‘यह क्या बोलेंगे?’’ निर्मला तमतमाए स्वर में बोली, ‘‘मैं कह चुकी हूं कि मेरी बेटी अब उस घर में कभी नहीं जाएगी.’’

‘‘आप एक बात भूल रही हैं, समधिनजी,’’ दिवाकर कुरसी छोड़ कर खड़े हो गए और समझाते हुए बोले, ‘‘रूपा अब हमारे घर की बहू है. उस पर आप का नहीं, हमारा हक बनता है. आप अपने अहं को बेटी के भविष्य से जोड़ कर अच्छा नहीं कर रही हैं. ठंडे दिमाग से सोच कर देखिएगा. मैं जा रहा हूं लेकिन अब मैं या मुकुल रूपा को विदा कराने नहीं आएंगे. आप लोगों की इच्छा होगी तो बेटी भेज दीजिएगा या फिर सारी जिंदगी अपने घर पर ही रखे रहिएगा.’’

निर्मला ने चीख कर कहा, ‘‘हां, हम उसे सारी जिंदगी रखेंगे पर आप के घर कभी नहीं भेजेंगे.’’

दिवाकर निर्मला की बात सुनते हुए भी अनसुनी कर बाहर निकल गए.

दिवाकर के जाने के बाद निर्मला थके हुए योद्धा की तरह धम से सोफे पर बैठ गई. उसे लगा कि दिवाकर नाम के इस मर्द का दर्प आज उस ने चूर कर दिया है पर दूसरे ही पल ऐसा महसूस हुआ कि नहीं, इस जंग में वह जीत नहीं सकी. और इस के लिए गुलाबचंद को दोषी मानते हुए वह उन पर बरस पड़ी, ‘‘दिवाकर इतनी बड़ीबड़ी बातें कह गए और आप को कुछ बोलते नहीं बना?’’

‘‘मैं क्या कहता? तुम तो बोल ही रही थीं,’’ गुलाबचंद ने सफाई दी.

‘‘आप मर्द हैं या माटी का लोंदा? वह आदमी आप की पत्नी का अपमान कर गया और आप चुपचाप उस का चेहरा देखते रहे.’’

गुलाबचंद ने देखा कि निर्मला बहुत नाराज है और अपनी आदत के अनुसार जो भी उस के सामने पड़ेगा उसी पर झल्लाएगी, इसलिए वहां से हट जाना ही उचित समझा.

गुलाबचंद के जाने के बाद निर्मला ने तेज स्वर में रूपा को आवाज दी, ‘‘रूपा…’’

‘‘आई, मम्मी…’’ के साथ ही रूपा बगल के कमरे से निकल कर सामने आ गई.

निर्मला ने सीधे रूपा की ओर देखा. उस की मांग में सिंदूर भरा हुआ था. वह गुस्से में तिलमिला कर बोली, ‘‘मैं ने तुझे सिंदूर लगाने को मना किया है न, तू मानती क्यों नहीं?  जा, जा कर सिंदूर धो दे.’’

रूपा वहां से चली आई.

रूपा पसोपेश में थी, क्या करे, क्या न करे. इस बार सास और पति से झगड़ कर गुस्से में आई थी. मम्मी को रोरो कर उस ने सारा हाल बताया था और यह भी कहा था कि वह उस घर में नहीं जाना चाहती. मम्मी ने भी कहा था वह उस घर में नहीं जाएगी और उन्होंने सिंदूर लगाने को मना किया था. रूपा ने तब मम्मी के कहने पर सिंदूर पोंछ दिया था पर बालों में कंघा करते वक्त अनायास ही उस के हाथ सिंदूर की डिबिया और मांग तक पहुंच जाते.

रूपा अभी ऊहापोह में ही थी कि उसे अपनी छोटी बहन गुडि़या की आवाज सुनाई पड़ी, ‘‘क्या चिंता कर रही हो, दीदी? मम्मी ने कहा है मांग का सिंदूर धो दो तो धो डालो. तुम भी तो यही चाहती हो.’’

गुडि़या, रूपा की तरह उन्मुक्त और लापरवा नहीं बल्कि गंभीर प्रवृत्ति की थी. 12वीं कक्षा में पढ़ती थी. पापा से बहुत कम ही बातें करती थी. हां, छोटे भाइयों से बहुत स्नेह रखती थी.

रूपा ने कहा, ‘‘मैं तय नहीं कर पा रही हूं गुडि़या कि इस समय मुझे क्या करना चाहिए.’’

‘‘क्यों?’’ गुडि़या ने करीब आ कर कहा, ‘‘तुम्हारा तो उस घर में दम घुटता है. उस घर के सभी लोग तुम पर अत्याचार करते हैं. तुम पर तरहतरह की बंदिशें लगाते हैं. वह घर है या जेलखाना. बचपन से मम्मी से आजादी का पाठ पढ़ा है तुम ने. फिर तुम उस जेलखाने में कैसे रह सकती हो?’’

‘‘जेलखाना तो सचमुच ही है परंतु…’’

‘‘परंतु क्या, दीदी?’’ गुडि़या ने रूपा की बात को बीच में काटते हुए कहा, ‘‘यही मौका है. बंधन तोड़ कर बाहर निकल आओ और आजाद पंछी की तरह घूमो. इस सिंदूर में क्या रखा है? शादी तो एक धोखा है, पवित्र धोखा. आत्मा के बंधन के नाम पर धोखा. असल में यह औरतों को मर्दों का गुलाम बनाने का फंदा है. है न दीदी?’’

‘‘तुम ठीक कह रही हो, गुडि़या,’’ रूपा को लगा गुडि़या उस का समर्थन कर रही है पर अगले ही पल गुडि़या का जवाब सुन कर वह चकरा गई.

‘‘मेरी बात मानोगी, दीदी. तुम अभी ही ससुराल वापस चली जाओ. वही तुम्हारा घर है. हम बेटियों के लिए मांबाप का घर शादी के पहले तक ही होता है, शादी के बाद ससुराल ही हमारा अपना घर होता है. तुम अपने आसपास देखो, कहीं दिखाई पड़ता है ऐसा कि शादी के बाद बेटी पिता के घर पर रह रही है.’’

रूपा को कुछ उत्तर देते न बना.

‘‘सच तो यह है दीदी कि मम्मी तुम्हारे कष्टों के लिए यह रिश्ता नहीं तोड़ रहीं, अपने अहं की तुष्टि के लिए तोड़ रही हैं. उन्हें आप के ससुर का कहना बुरा लगा है. मम्मी को तो तुम जानती ही हो और मैं भी. जरा सोचो दीदी, रिश्ता टूटने से उन का क्या बिगड़ेगा? लड़के वाले हैं. जीजाजी की दूसरी शादी हो जाएगी पर तुम्हारा क्या होगा? तुम्हें शादी के बंधन में नहीं बंधना हो तो अलग बात है. वरना परित्यक्ता का दाग तो लग ही जाएगा. फिर मुकुल जीजाजी या उन के घर वाले जालिम हैं ऐसा तो नहीं लगता और मैं भी तो तुम्हारे ससुराल हो आई हूं.’’

‘‘मुझे उन की पाबंदियों वाली बातें बरदाश्त नहीं होतीं,’’ रूपा ने अपना पक्ष रखने की नीयत से कहा.

‘‘ठीक है, तुम्हें उन की नसीहत, उन की सीख अच्छी नहीं लगती. और इसी को तुम ने अत्याचार का नाम दे कर बारबार मम्मी से शिकायत की है लेकिन जब मम्मी डांटती हैं तो कैसे बरदाश्त कर लेती हो?’’

‘‘तुम कहना चाहती हो गुडि़या, मुझे ससुराल लौट जाना चाहिए?’’

‘‘हां, दीदी, इसी में हम सब की भलाई है,’’ गुडि़या ने कहा, ‘‘इस से तुम्हारी इज्जत और जिंदगी बर्बाद होने से बच जाएगी. दोनों परिवारों की इज्जत रह जाएगी. यदि ऐसा नहीं हुआ तो मेरी शादी नहीं हो पाएगी.’’

‘‘वह कैसे?’’ रूपा ने विस्मय से पूछा.

‘‘जिस परिवार की बेटी साधारण समस्याओं के लिए पति और ससुराल छोड़ कर पिता के घर में बैठी हो उस परिवार में कौन रिश्ता जोड़ने आएगा?’’ गुडि़या ने कहा.

‘‘लेकिन मम्मी…’’

‘‘मम्मी की परवा मत करो, दीदी, तुम अपना भविष्य देखो. मम्मी भी तो किसी घर की बेटी हैं. वह क्यों नहीं रहीं अपने मायके में जो तुम्हारी ससुराल छुड़ाना चाहती हैं.’’

रूपा ने आश्चर्य से गुडि़या को देखा कि इतनी छोटी सी लड़की और इतनी समझदारी, इतना ज्ञान कहां से आया उस के पास.

‘‘एक बात तुम्हें और बताती हूं, दीदी, लड़का हो या लड़की, उम्र के साथ जिम्मेदारियां भी बदलती हैं और उसी के साथ विचार भी. आज मम्मी जींस पहनें तो अच्छा लगेगा? बोलो न, अच्छा लगेगा?’’

रूपा ने तात्पर्य न समझते हुए भी कहा, ‘‘नहीं.’’

‘‘ठीक उसी तरह बहू के लिबास में मर्यादा की मांग की जाए तो बुरा क्यों लगना चाहिए? तुम तो सलवारकमीज ही पहनती रहीं. मुझे जींस पसंद है परंतु शादी के बाद बहू की मर्यादा वाला लिबास ही पहनूंगी.’’

गुडि़या और भी कुछ कहती पर रूपा अपने भीतर चल रहे मंथन में डूब गई.

अगली सुबह रूपा मम्मी के सामने आई तो निर्मला ने अवाक् हो कर उसे देखा. वह ससुराल की साड़ी पहने और शृंगार किए हुए थी. मांग में सिंदूर दमक रहा था. निर्मला चीख उठी, ‘‘यह क्या किया तू ने? मैं ने तुझे सिंदूर धो देने को कहा था.’’

‘‘पति के जीवित रहते सिंदूर नहीं धो सकती,’’  रूपा ने साहस कर के कहा.

‘‘कौन पति? कैसा पति?  मर गया तेरा पति.’’

‘‘मम्मी, ऐसा मत कहिए. मैं ससुराल जाने के लिए आप से अनुमति लेने आई  हूं.’’

‘‘क्या? ससुराल जाएगी. दिमाग फिर गया है तेरा?’’

‘‘दिमाग तो पहले फिरा हुआ था, मम्मी,’’ बगल के कमरे से निकल कर गुडि़या सामने आ गई, ‘‘तुम्हें तो खुश होना चाहिए कि दीदी अपने घर जा रही हैं. इस के साथ ही महीनों से चला आ रहा दोनों परिवारों के बीच का तनाव खत्म हो जाएगा.’’

‘‘तू चुप रह, बड़ी समझदार हो गई है. मेरी कोख से जन्मी मुझी को सबक सिखा रही है,’’ निर्मला गरजीं.

‘‘तुम चाहे जितना बिगड़ लो, मम्मी, दीदी अब यहां नहीं रहेंगी, अपनी ससुराल जाएंगी, आज और अभी.’’

‘‘देखती हूं कौन ले जाता है इसे,’’ निर्मला चीखीं.

‘‘पापा ले कर जाएंगे, और यदि पापा नहीं ले गए तो मैं दीदी को छोड़ कर आऊंगी.’’

निर्मला अपना गुस्सा नहीं रोक सकी. उठ कर एक जोरदार तमाचा जड़ दिया गुडि़या के गाल पर. फिर उस की गरदन पकड़ कर झकझोरने लगी, ‘‘नालायक, मुझे जवाब देती है.’’

रूपा गुडि़या को छुड़ा कर निर्मला के सामने सीधी खड़ी हो गई. उस की आंखों में आज तेज था. निर्मला की आंखों में देखते हुए बोली, ‘‘बस कीजिए, मम्मी. हद हो गई. मैं बच्ची नहीं बालिग हूं. अपने बारे में सोचनेसमझने और फैसला लेने का मुझे पूरा हक है. मैं ने ससुराल वापस जाने का फै सला कर लिया है और जाऊंगी ही. मुझे कोई नहीं रोक सकता.’’

निर्मला गश खा कर धम से सोफे पर बैठ गई. कल दिवाकर के साथ बहस की जंग में जीती थी या हारी थी, ठीकठीक नहीं मालूम पर आज अपनी सत्ता और अहं के युद्ध में पूरी तरह परास्त हो गई थी वह.

Tags:
COMMENT