चिराग अपनी धुन में था, ‘‘पापा, मैं आप से कह चुका हूं, मैं नलिनी से ही विवाह करूंगा चाहे कुछ भी हो जाए,’’ चिराग ने जब यह बात दृढ़ स्वर में फिर दोहराई तो रमाकांत स्वयं पर नियंत्रण खो बैठे, चिल्लाते हुए बोले, ‘‘वह लड़की मेरे घर में बहू बन कर नहीं आएगी, यह मेरा अंतिम निर्णय है.’’

Tags:
COMMENT