भारत के पूर्व क्रिकेटर लक्ष्मीपति बालाजी को आईपीएल 2018 सत्र के लिए चेन्नई सुपर किंग्स के गेंदबाजी कोच चुना गया है. चेन्नई टीम ने कप्तान महेंद्र सिंह धोनी, सुरेश रैना और रविंद्र जडेजा को टीम में बरकरार रखा है. सीएसके के सीईओ के एस विश्वनाथन ने यहां एक प्रचार कार्यक्रम के दौरान इसकी घोषणा की. स्टीफन फ्लेमिंग टीम के कोच होंगे जबकि आस्ट्रेलिया के पूर्व बल्लेबाज माइकल हस्सी बल्लेबाजी कोच और बालाजी गेंदबाजी कोच होंगे.

ट्रेनर ग्रेगरी किंग और फिजियो टामी सिमसेक को भी बरकरार रखा गया है. फ्लेमिंग टीम के निलंबित होने के समय भी कोच थे. वह 2016 और 2017 सत्र में राइजिंग पुणे सुपरजाइंट्स के कोच रहे. हस्सी भी 2008 से 2013 तक चेन्नई के साथ थे.

इस मौके पर मौजूद धोनी ने कहा कि कोर ग्रुप फिर जुटाना पहला कार्य है. उन्होंने स्वीकार किया कि 27 और 28 जनवरी को नीलामी में खिलाड़ियों को चुनना आसान नहीं होगा. अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में पदार्पण करने के बाद बालाजी के कई बार अपनी खराब फिटनेस के कारण टीम से बाहर बैठना पड़ा था. 34 वर्षीय दायें हाथ के इस गेंदबाज ने भारत के लिए 8 टेस्ट और 30 वनडे खेले हैं.

sports

आईपीएल में शानदार रहा बालाजी का सफर

बालाजी ने आईपीएल के पहले ही सीजन में हैट्रिक लेकर सभी को चौंका दिया था. 10 मई 2008 को उन्होंने चेन्नई सुपर किंग्स की ओर खेलते हुए किंग्स इलेवन पंजाब के खिलाफ यह उपलब्धि हासिल की थी. उस मैच में उन्होंने इरफान पठान, पीयूष चावला और वीआरवी सिंह को लगातार गेंदों पर आउट किया था.

शोएब अख्तर की पहली ही गेंद पर लगाया था छक्का

2004 में पाकिस्तान के खिलाफ मैच खेल रहे बालाजी ने शोएब अख्तर की पहली गेंद का सामना किया और उस पर छक्का लगाया. लेकिन आश्चर्यजनक रूप से अगली ही गेंद पर उनका बल्ला टूट गया. यह पाकिस्तानी दौरा था,  जब बालाजी ने अपनी पहचान एक तेज गेंदबाज के रूप में बनाई थी.

पाकिस्तान टूर के दौरान वनडे सीरीज का पांचवां मैच लाहौर के गद्दाफी स्टेडियम में 24 मार्च को खेला गया था. इस मैच में बालाजी ने शोएब अख्तर की बौल पर एक जोरदार छक्का लगाया था. जब वे हुक कर रहे थे तो बल्ला टूटकर गिर पड़ा था. इसके बाद वे अपनी फेमस स्माइल के साथ बौल और बैट दोनों ओर रुक-रुककर देख रहे थे, जबकि स्टेडियम में बालाजी-बालाजी गूंज रहा था.

Tags:
COMMENT