सुना है कि भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी बचपन में चाय बेचा करते थे और आज वे देश संभाल रहे हैं. पर अगर कोई मुक्केबाज अपनी गरीबी के चलते भरी जवानी में चाय बेचने या पिता के कर्ज और बुरे हालात के चलते कुल्फी बेचने पर मजबूर हो जाए तो इस में किसे कुसूरवार माना जाएगा?

COMMENT