वनडे क्रिकेट इतिहास में अब तक सात दोहरे शतक लग चुके हैं. बड़े से बड़े लक्ष्यों को एक शानदार पारी की बदौलत हासिल किया जा चुका है. लेकिन क्या आप बता सकते हैं कि वनडे क्रिकेट की सर्वश्रेष्ठ पारी कौन सी थी.

इसे तलाशने के लिए आपको पूरे 34 साल पीछे जाना होगा. इंग्लैंड के मैनचेस्टर के मैदान पर वेस्टइंडीज के विव रिचर्ड्स ने ऐसी पारी खेली थी जिसे क्रिकेट के बाइबल माने जानें वाले विजडन ने वनडे क्रिकेट इतिहास की सबसे बड़ी पारी माना था.

रिचर्ड्स लगभग 10 साल अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में बिता चुके थे. उनके जैसा आक्रामक और कौन्फिडेंट बल्लेबाज शायद ही उस दौर में कोई रहा था. इसी आक्रामकता के साथ उन्होंने 31 मई 1984 में ऐसी पारी खेली जिसे आज भी लोग वनडे क्रिकेट की सबसे बड़ी और अच्छी पारी मानते हैं.

ये उस वक्त की वेस्टइंडीज टीम थी जिसे लगातार दो विश्व कप में जीतने के बाद हार मिली थी और टीम अपनी बादशाहत फिर से हासिल करने के लिए लड़ रही थी.

रिचर्ड्स ने खेली 189 रनों की पारी

इंग्लैंड के खिलाफ वेस्टइंडीज के कप्तान क्लाइव लौयड ने टौस जीतकर पहले बल्लेबाजी करने का फैसला किया, लेकिन फैसला गलत साबित हुआ 11 रन पर दो बड़े बल्लेबाज पवेलियन लौट चुके थे. 43 रन तक टीम ने अपना तीसरा विकेट गंवा दिया था. एक तरफ रिचर्ड्स थे लेकिन दूसरी तरफ इंग्लैंड के गेंदबाज वेस्टइंडीज के बल्लेबाजों को पवेलयिन भेज रहे थे.

आपको यकीन नहीं होगा कि टीम के 100 से पहले 6 विकेट गिर चुके थे. लेकिन अंग्रेजों के हर सीम और रफ्तार का जवाब रिचर्ड्स अपने बल्ले से दे रहे थे. रिचर्ड्स ने 170 गेंद में नाबाद 189 रनों की पारी खेली थी जिसमें 21 चौके और 5 गगनभेदी छक्के शामिल थे.

ये पारी तब आई जब टीम का और कोई भी बल्लेबाज 27 से ज्यादा रन नहीं बना पाया था. सिर्फ दो खिलाड़ी दहाई के आंकड़े को पार कर पाए था.

वेस्टइंडीज का 9वां विकेट 41वें ओवर में 166 रन पर गिरा था, उसके बाद रिचर्ड्स ने माइकल होल्डिंग के साथ मिलकर टीम के स्कोर को निर्धारित 55 ओवर में 272 तक पहुंचाया.

होल्डिंग ने इसमें सिर्फ 12 रनों का योगदान दिया था. दूसरी तरफ रिचर्ड्स ने इंग्लैंड के हर गेंदबाजों को जमकर धोया. इयान बोथम उनके खास निशाने पर रहे थे.

वेस्टइंडीज को मिली थी जीत

रिचर्ड्स की चमत्कारी और हैरतअंगजे बल्लेबाजी के बाद वेस्टइंडीज की चिर-परिचित गेंदबाजी के आगे इंग्लैंड के बल्लेबाजों की एक न चली और पूरी टीम 168 रन पर औल आउट हो गई. गार्नर ने सबसे अधिक 3 विकेट झटके तो होल्डिंग और रिचर्ड्स ने दो-दो विकेट लिए. इंग्लैंड के लिए लैंब ने सबसे अधिक 75 रन बनाए थे.

विजडन की लिस्ट में महान पारी

विजडन ने 1 फरवरी 2002 को टेस्ट और वनडे की सबसे बेहतरीन पारियों की लिस्ट जारी की थी. रिचर्ड्स की इस पारी को कपिल देव, सनथ जयसूर्या और ब्रायन लारा जैसे बल्लेबाजों से कहीं आगे माना था. सचिन तेंदुलकर इस लिस्ट में टौप टेन में भी शामिल नहीं थे.

Tags:
COMMENT