नादिया निगहत के लिए पहली महिला फुटबौल कोच बनना कोई आसान काम नहीं था. जम्मू कश्मीर में किसी महिला के लिए ऐसा करना वास्तव में लोगों के माइंडसेट को बदलना था. उन्हें यह बताना था कि लड़कियां किसी भी फील्ड में आगे बढ़ सकती हैं.

कश्मीर के श्रीनगर में रहने वाली 20 वर्षीय निगहत को यह करियर चुनने के लिए बहुत सी आलोचनाओं का सामना करना पड़ा. अपने इस सफर के बारे में नादिया कहती हैं कि 40-50 लड़कों के बीच मैं अकेली लड़की थी, जिसने स्थानीय कालेज में प्रैक्टिस सेशन में भाग लिया. मुझे और मेरे परिवार को इसके लिए कड़ी आलोचना झेलनी पड़ी.

Tags:
COMMENT