भारत और पाकिस्तान के क्रिकेट मैच का इंतजार इन दोनों मुल्कों के दर्शक बेसब्री से करते हैं और जब से ये दोनों देश आपस में बहुत कम मैच खेलने लगे हैं तब से तो किसी न्यूट्रल वेन्यू पर होने वाले इन के इक्कादुक्का मैचों को देखने का रोमांच अपनी हद पर होता है. लेकिन बहुत बार इन दोनों देशों के आपस में बिगड़ते रिश्तों का खमियाजा क्रिकेट को चुकाना पड़ता है. अब कुछ ही समय में इंगलैंड में वनडे मैचों का वर्ल्ड कप आने वाला है और भारत और पाकिस्तान के बीच होने वाले मैच पर अभी से काले बादल मंडराने लगे हैं.

14 फरवरी को पुलवामा, जम्मूकश्मीर में हुए आतंकवादी हमले के बाद जब से इन दोनों देशों के बीच कड़वाहट बढ़ी है खासकर भारत में गुस्सा ज्यादा है तब से यह मांग उठने लगी है कि इस वर्ल्ड कप में भारत को पाकिस्तान के साथ मैच नहीं खेलना चाहिए. भारत में तो कई क्रिकेट संघों ने अपना विरोध जताते हुए पाकिस्तानी खिलाड़ियों की तसवीरें भी हटा दी हैं.

हालांकि, 19 फरवरी को आईसीसी की तरफ से बयान जारी कर के कह दिया गया है कि 30 मई से शुरू हो रहे वर्ल्ड कप के शिड्यूल में किसी तरह का बदलाव नहीं हो सकता है, लेकिन देश में इस वक्त तनाव के हालात को देख कर कई संगठन और पूर्व खिलाड़ी भी पाकिस्तान के साथ मैच नहीं खेलने की बात कर रहे हैं. पूर्व क्रिकेटर हरभजन सिंह ने कहा है कि भारत को 16 जून, 2019 को मैनचेस्टर में पाकिस्तान के खिलाफ नहीं खेलना चाहिए.

इस मसले पर बीसीसीआई से जुड़े एक सूत्र ने बताया कि भारत और पाकिस्तान के बीच मैच खेलने को ले कर आने वाले कुछ दिनों में हालात साफ हो जाएंगे. इस में आईसीसी को कुछ नहीं करना है. अगर भारत सरकार का निर्देश होगा कि हमें पाकिस्तान के साथ नहीं खेलना है तो हम नहीं खेलेंगे.

बीसीसीआई के एक और सूत्र ने बताया कि इस मामले में आईसीसी से कोई बात नहीं हुई है. अगर हालात ऐसे ही बने रहते हैं और भारत को  पाकिस्तान के साथ फाइनल मैच में खेलना हो और हम नहीं खेलते हैं तो पाकिस्तान को जीता माना जाएगा.

वैसे इस मसले पर आईसीसी के मुख्य कार्यकारी अधिकारी डेव रिचर्डसन ने कहा, “हमें अभी तक दोनों बोर्डों की ओर से मैच नहीं खेलने को ले कर कोई सूचना नहीं मिली है. हम ने भी दोनों बोर्डों को इस मामले में कुछ नहीं लिखा है.

“हमारी संवेदनाएं इस घटना (पुलवामा कांड) से प्रभावित हुए लोगों के साथ है. हम बीसीसीआई और पीसीबी समेत अपने सदस्यों के साथ हालात पर नजर बनाए हुए हैं. फिलहाल वर्ल्ड कप के तय कार्यक्रम के मुताबिक भारतपाक मैच समेत किसी भी दूसरे मुकाबले के नहीं खेले जाने के कोई संकेत नहीं है.

“भारतपाक मैच के टिकट के लिए सब से ज्यादा 4 लाख आवेदन मिल चुके हैं. हालांकि, ओल्ड ट्रैफर्ड (मैनचेस्टर) की दर्शक क्षमता सिर्फ 25 हजार है. इस से कई लोगों को निराशा होगी. दर्शक सिर्फ इंगलैंड से ही नहीं, बल्कि दूसरे देशों से भी यह मैच देखने आने वाले हैं. ऑस्ट्रेलियाइंगलैंड मैच के टिकट के लिए ढाई लाख और फाइनल मुकाबले के लिए 2 लाख, 60 हजार से ज्यादा आवेदन मिले हैं.”

डेव रिचर्डसन ने साफ बताया कि इंगलैंड में होने वाले भारतपाक मैच को देखने के लिए दर्शक कितने उतावले हैं. अब तो यही उम्मीद की जा सकती है कि जल्दी से यह खराब माहौल बदले और वर्ल्ड कप का यह सब से रोमांचक मैच बिना किसी रुकावट के खेला जाए.

Tags:
COMMENT