भारत और औस्ट्रेलिया के बीच चार टेस्ट मैचों की सीरीज का दूसरा मुकाबला शुक्रवार (14 दिसंबर) से शुरू हो रहा है. मेजबान टीम पर यह मुकाबला जीतकर सीरीज में बराबरी पर आने का दबाव है. हालांकि, औस्ट्रेलियाई टीम के लिए यह आसान नहीं होगा.

मेजबान टीम का पिछले एक साल का प्रदर्शन उसके प्रशंसकों के लिए निराश करने वाला रहा है. उसके खराब खेल का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि इससे पहले 1984 में ही उसने इतना कमजोर प्रदर्शन किया था.

औस्ट्रेलिया की टीम पहले टेस्ट में पहली पारी में 235 और दूसरी पारी में 291 रन ही बना सकी. साफ है, वह दोनों ही पारियों में 300 का स्कोर नहीं छू सकी. दिलचस्प बात यह है कि 2018 में ऐसा कोई पहली बार नहीं हुआ है.

यह टीम तो इस साल पिछली 13 पारियों में सिर्फ एक बार ही 300 का आंकड़ा छू सकी है. इससे पहले वह 1984 में इस दौर से गुजरी थी. तब वह 19 पारियों में सिर्फ एक बार 300 का स्कोर पार कर सकी थी.

आखिरी बार यूएई में बनाए थे 300+ रन

औस्ट्रेलिया की टीम ने आखिरी बार 300 रन का आंकड़ा इस साल पाकिस्तान के खिलाफ दुबई में पार किया था. उसने 7-11 अक्टूबर के बीच खेले गए टेस्ट मैच में पहली पारी में 202 रन बनाए. हालांकि, उसने दूसरी पारी में अपना प्रदर्शन सुधारते हुए 8 विकेट पर 362 रन बनाए. उसने इस प्रदर्शन की बदौलत यह टेस्ट मैच ड्रॉ करा लिया. लेकिन इसके बाद खेले गए दूसरे टेस्ट में वह 145 और 164 रन ही बना सका और मैच हार गया.

द. अफ्रीका में 8 पारी, एक बार 300+ बनाया

औस्ट्रेलिया ने इस साल मार्च-अप्रैल में दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ चार टेस्ट मैच खेले थे. उसने एक मार्च से डरबन में खेले गए पहले टेस्ट की पहली पारी में 351 और दूसरी पारी में 227 रन बनाए. यह एकमात्र मौका था, जब उसने इस सीरीज में 300 का आंकड़ा पार किया. उसने यह मैच 118 रन से जीता. इसके बाद वह अगले तीन टेस्ट की छह पारियों में 243, 239, 255, 107 221 और 119 रन ही बना सका. वह ये तीनों मैच हार गया.

तीन सीरीज में सिर्फ दो बार 300+

इस तरह औस्ट्रेलिया ने मौजूदा सीरीज और पिछली दो सीरीज को मिलाकर सिर्फ दो बार ही 300 रन का आंकड़ा पार कर सकी है. महत्वपूर्ण यह है कि इन दोनों ही मौकों पर वह मैच नहीं हारी. संकेत साफ हैं, कि अगर औस्ट्रेलिया 300 रन बना लेता है तो उसे हराना आसान नहीं होगा.

स्मिथ और वार्नर की कमी खल रही

औस्ट्रेलिया की बैटिंग का यह बुरा हाल स्टीवन स्मिथ, डेविड वार्नर और कैमरन बेनक्रॉफ्ट पर लगे बैन के कारण हुआ है. इन तीनों को बौल टैम्परिंग मामले में दोषी पाए जाने के बाद प्रतिबंधित किया गया है. क्रिकेट औस्ट्रेलिया (सीए) ने स्मिथ और वार्नर पर एक-एक साल और बेनक्रॉफ्ट पर नौ महीने का बैन लगाया है.

Tags:
COMMENT