मुद्दा लेडीज टौयलेट की कमी क्यों? हमारा समाज बाजार को मर्दों की जगह मानता आया है. यह सोच औरतों को हमेशा चारदीवारी के अंदर समेटने की रही है. बदलते समय के साथ औरतों ने बाजारों में जाना शुरू तो कर दिया है किंतु पब्लिक प्लेसेज में महिला शौचालयों की भारी कमी के चलते उन को भारी समस्या का सामना करना पड़ता है. रेखा और उस की ननद ने आज शौपिंग करने का कार्यक्रम बनाया. उन के साथ शौपिंग की इच्छा लिए रेखा की षोडशी बेटी मोहना भी तैयार हो गई. उत्साहित हो तीनों बाजार पहुंच गईं. खरीदारी करने के बाद उन्होंने कुछ खायापिया. अब मोहना को बाथरूम जाने की इच्छा हुई. उस के पीरियड्स चल रहे थे, सो जाना जरूरी था. लेकिन अनगिनत दुकानों, छोटे रैस्टोरैंट और स्टोर्स में पूछने के बाद भी जब टौयलेट की सुविधा का पता न चला तो मोहना की आंखें छलक पड़ीं. उस की हालत देख कर रेखा ने पास ही में रह रहे लोगों के घर का दरवाजा खटखटाया और बेटी को उन का शौचालय प्रयोग करने की प्रार्थना की.

Tags:
COMMENT