कहने को तो यह एक कमउम्र छात्र द्वारा पढा़ई में नाकाम रहने पर खुदकुशी जैसा बुजदिलीभरा कदम उठाने की नादानी है लेकिन इस में एक छटपटाहट और अहम संदेश भी है जिसे अगर वक्त रहते नहीं समझा गया तो कई और हर्ष बदलाव की राह में यों ही भटके नजर आ सकते हैं.

COMMENT