मध्य प्रदेश के गबौद गांव के निवासी पेड़पौधों की काफी हिफाजत करते हैं. जंगल ही इन का जीवन है. यहां की ऊंची पहाडि़यां और उन पर छाई हरियाली प्रकृति के प्रति इन ग्रामीणों के प्रेम की साक्षी है. पिछले 25 वर्षों से ग्राम वन समिति के लोग इन पेड़पौधों की रखवाली कर रहे हैं. मजाल क्या है जो कोई वनमाफिया इस तरफ नजर उठा कर भी देख ले. जंगल ही इन ग्रामीणों का जीवन है. जंगल और पेड़पौधों को बचाने के लिए तकरीबन 25 साल पहले इन लोगों ने यहां एक ग्रामीण वन समिति बनाई थी. छत्तीसगढ़ के महासमुंद स्थित इस इलाके में तब से यह सिलसिला चला आ रहा है.

Tags:
COMMENT