राजस्थान के आतंकवाद निरोधक दस्ते ‘एटीएस’ के एडीजी उमेश मिश्रा जयपुर स्थित अपने औफिस में बैठे थे, तभी उन्हें सूचना मिली कि राज्य में बड़े पैमाने पर अवैध हथियार खरीदनेबेचने और फर्जी आर्म्स लाइसेंस बनाने का कारोबार चल रहा है. यह गिरोह 10 साल पुराने लाइसेंस को नया करा कर पुलिस से भी सत्यापित करा लेता है. लेकिन संबंधित थाने में हथियारों को दर्ज नहीं कराया जाता.

Tags:
COMMENT