लेखक- मधु शर्मा

कटिहा प्रेम विवाह के खिलाफ अड़चनों की शुरुआत घरपरिवार व मातापिता से ही होती है. ज्यादातर मामलों में लड़की को जबरदस्त विरोध झेलना पड़ता है. जातिबिरादरी, धर्म और अमीरीगरीबी की ऊंचनीच को ले कर प्रेमी युगल को मुश्किलों के दौर से गुजरना पड़ता है. ऐसे में इन मसलों में आ रही कठिनाइयां व उन के उपाय सम झें इस लेख में. शिवांगी ने जब अपने सहकर्मी साहिल को मातापिता के समक्ष प्रेमी के रूप में प्रस्तुत किया तो उन के होश उड़ गए. 2 वर्ष पहले शिवांगी की बड़ी बहन के लिए वर की खोज करते हुए जाति, उपजाति की लकीर पीटने वाले शिवांगी के मातापिता यह कैसे स्वीकार करते कि उन का छोटा दामाद किसी अन्य धर्म का हो.

Tags:
COMMENT