लेखक-भारत भूषण श्रीवास्तव और शैलेंद्र सिंह

शक नहीं कि देश की अधिकांश आबादी आयुर्वेद के भरोसे है क्योंकि यह धर्म का ही एक हिस्सा है ठीक वैसे ही जैसे यज्ञ और हवन जैसे कर्मकांड हैं जो सिर्फ इसलिए किए जाते हैं क्योंकि सदियों से किए जाते रहे हैं. फायदा होता है तो श्रेय भगवान और उस के दलालों को दे दिया जाता है और न हो तो समय को कोसने का सनातनी रिवाज सभी को रटा पड़ा है. यही बाबा का कारोबारी फंडा है जिस ने डर पर दुकान चलाई. जाहिर है, आयुर्वेद एक परंपरा है, विज्ञान नहीं, जिस के अपने पैमाने होते हैं और जिसे दुनिया स्वीकारती है. ऐसा कोई सनातनी धर्मग्रंथ नहीं है जिस में किसी न किसी तरह आयुर्वेद की महिमा न गाई गई हो.

चरक संहिता, सुश्रुत संहिता और वाग्भट्ट का अष्टांग हृदयम् संग्रह आज भी आयुर्वेद के मानक ग्रंथ माने जाते हैं. अब इन प्राचीन ग्रंथों में है क्या, यह शायद कम लोगों को ही मालूम हो पाएगा क्योंकि ये ग्रंथ श्रुति और स्मृति पर आधारित हैं. जो बात सम?ा नहीं आती वह बड़ी मुनाफेदार कारोबारी धर्म का हवाला दे कर बना लेते हैं. श्रीमद्भगवतगीता और रामायण इस के बेहतर उदाहरण हैं जिन से खरबों का व्यापार होता है.

ये भी पढ़ें- दहेज के कारण जान गंवाती महिलाएं

प्राकृतिक जड़ीबूटियों के गुणों का शरीर पर प्रभाव पड़ता है, इस से इनकार नहीं किया जा सकता पर इस विषय को आज के युग में सिरआंखों पर रखेंगे तो वह ऐसा ही होगा कि घोड़े के रथ पर बैठ कर चोट पहुंचाना.

दवाइयां वनस्पतियों के गुणधर्म के आधार पर बनाई जाती हैं, मसलन तुलसी का अर्क जो बड़ा चमत्कारी कहते प्रचारित किया जाता है कि इस से इम्यूनिटी बढ़ती है, सैकड़ों तरह के साध्य और असाध्य रोग भागते हैं इसलिए इस का प्रतिदिन सेवन करना चाहिए. इस पर भी ज्यादा लोग ?ांसे में नहीं आते तो तुलसी की धार्मिक महत्ता का राग आलापा जाने लगता है कि वे तो विष्णु की पत्नी हैं. एलोपैथिक दवाओं में जो भी मिलाया जाता है वह प्रकृति में मिलने वाले पदार्थों से ही आता है और प्राचीन अनुभव हर नई दवा को विकसित करने में इस्तेमाल किया जाता है.

आगे की कहानी पढ़ने के लिए सब्सक्राइब करें

सरिता डिजिटल

डिजिटल प्लान

USD4USD2
1 महीना (डिजिटल)
  • 5000 से ज्यादा फैमिली और रोमांस की कहानियां
  • 2000 से ज्यादा क्राइम स्टोरीज
  • 300 से ज्यादा ऑडियो स्टोरीज
  • 50 से ज्यादा नई कहानियां हर महीने
  • एक्सेस ऑफ ई-मैगजीन
  • हेल्थ और ब्यूटी से जुड़ी सभी लेटेस्ट अपडेट
  • समाज और राजनीति से जुड़ी समसामयिक खबरें
सब्सक्राइब करें

डिजिटल प्लान

USD48USD10
12 महीने (डिजिटल)
  • 5000 से ज्यादा फैमिली और रोमांस की कहानियां
  • 2000 से ज्यादा क्राइम स्टोरीज
  • 300 से ज्यादा ऑडियो स्टोरीज
  • 50 से ज्यादा नई कहानियां हर महीने
  • एक्सेस ऑफ ई-मैगजीन
  • हेल्थ और ब्यूटी से जुड़ी सभी लेटेस्ट अपडेट
  • समाज और राजनीति से जुड़ी समसामयिक खबरें
सब्सक्राइब करें

प्रिंट + डिजिटल प्लान

USD100USD79
12 महीने (24 प्रिंट मैगजीन+डिजिटल)
  • 5000 से ज्यादा फैमिली और रोमांस की कहानियां
  • 2000 से ज्यादा क्राइम स्टोरीज
  • 300 से ज्यादा ऑडियो स्टोरीज
  • 50 से ज्यादा नई कहानियां हर महीने
  • एक्सेस ऑफ ई-मैगजीन
  • हेल्थ और ब्यूटी से जुड़ी सभी लेटेस्ट अपडेट
  • समाज और राजनीति से जुड़ी समसामयिक खबरें
सब्सक्राइब करें
और कहानियां पढ़ने के लिए क्लिक करें...