रिश्ता चाहे कोई भी हो, हर रिश्ते का अपना महत्त्व है. कुछ रिश्ते जन्म से बनते हैं. जो खून के रिश्ते होते हैं लेकिन जैसेजैसे हम जिंदगी के सफर में आगे बढ़ते जाते हैं. हमें कुछ ऐसे लोग मिलते हैं जिन से कई बार जानेअनजाने अनकहे रिश्ते बन जाते हैं. जिन का कोई नाम नहीं होता लेकिन जब बनते हैं तो दिल की गहराइयों से बनते हैं और उम्रभर निभाए जाते हैं. ये रिश्ते कभी भी, कहीं भी बन सकते हैं. मशहूर क्रिमिनल साइकोलौजिस्ट अनुजा कपूर का कहना है कि अब इन सब से अलग आजकल रिश्तों की कई नई परिभाषाएं देखी जा रही हैं और वो है हाईटेक रिश्ते की, अजैप्टेड रिश्तों की.

COMMENT