सवाल

मैं और मेरी पत्नी नोएडा की बड़ी इंटरनैशनल कंपनियों में नौकरी करते हैं. पत्नी प्रोडक्ट मैनेजर  की पोस्ट पर है और मैं प्रोडक्शन इंजीनियर की. हम दोनों की अब तक कोई संतान नहीं है. पत्नी की उम्र 32 वर्ष और मेरी 36 वर्ष. असल में हम दोनों ने अपना फर्टिलिटी टैस्ट कराया था जिस से पता चला कि मेरी पत्नी इंफर्टाइल है.

आईवीएफ, सैरोगेसी या बच्चा गोद लेने के विषय में सोचसमझकर आपसी सहमति से हम ने फैसला कर लिया था कि हमें बच्चा नहीं चाहिए. हम दोनों ही अगले महीने मेरी नौकरी के सिलसिले में 3 वर्षों के लिए अमेरिका के लिए निकलने वाले थे. लेकिन, हुआ यह कि मेरी पत्नी को एक सहेली के बच्चे को देख एक बार फिर खुद के बच्चे की इच्छा होने लगी है.

मैंने उसे बस इतना भर कहा था कि अगर हम अमेरिका नहीं गए तो मेरी नौकरी भी जा सकती है. उस ने मेरी बात का जाने कौन सा मतलब निकाला पर अमेरिका जाने से साफ इंकार कर दिया. अब मुझे समझ नहीं आ रहा कि किस पर फोकस करूं, हर महीने लाखों देने वाली नौकरी पर या अपनी बीवी पर.

ये भी पढ़ें- मेरा बेटा एकलौता और जिद्दी भी है. अगर मैंने उससे कुछ कहा तो हो सकता है, वो अपने साथ कुछ गलत कर ले

जवाब

यह स्थिति सचमुच दुविधापूर्ण है. आप और आप की पत्नी इंफर्टिलिटी ट्रीटमैंट की सहायता ले सकते हैं लेकिन उस प्रोसैस में बहुत समय लगेगा. आप को अमेरिका के लिए इसी महीने निकलना है जोकि ट्रीटमैंट के चलते संभव नहीं हो पाएगा. आप यह कर सकते हैं कि अपनी पत्नी को उस के मातापिता या अपने मातापिता के पास छोड़ कर अमेरिका चले जाएं.

आप टैस्ट्स के लिए साथ जाएं, प्रोसैस शुरू कराएं. अपनी पत्नी को सम झाएं कि इंफर्टिलिटी ट्रीटमैंट में लाखों का खर्च आता है जिस के लिए आप दोनों में से किसी को तो अपनी नौकरी करते रहना ही होगा. हां, हो सके तो कोशिश करिए कि आप अपनी नौकरी भारत में रह कर ही जारी रख सकें. पैसे तो आप कहीं भी रह कर कमा सकते हैं. इस ट्रीटमैंट में आप की पत्नी को आप के साथ और सपोर्ट की बेहद जरूरत है. ठंडे दिमाग से सोच कर फैसला लीजिए.

ये भी पढ़ें- संतानसुख के लिए क्या मुझे आईवीएफ तकनीक की मदद लेनी चाहिए ?

Tags:
COMMENT