मैं 45 वर्षीय सरकारी नौकरी में कार्यरत हूं. मेरे 2 बच्चे हैं. मां व पिता की मृत्यु के बाद मेरी बहनों की भी जिम्मेदारी मेरे कंधों पर आ गई है, जिस कारण घर में काफी विवाद रहता है. पिछले कुछ महीनों से मुझे बोलने में काफी दिक्कत होती है जिस के कारण सब के सामने शर्मिंदगी महसूस होती है. अब तो मन करता है कि अपना जीवन ही समाप्त कर लूं?

ये भी पढ़ें- मेरी बेटी गलत संगत के कारण कैरियर पर ध्यान नहीं दे रही है, क्या करूं?

आप समस्याओं को खुद पर इतना अधिक हावी न होने दें कि आप को आत्महत्या करने के बारे में सोचें. माना कि आप पर परिवार की ढेरों जिम्मेदारियां हैं जिन्हें आप को अकेले ही निभाना है, लेकिन आप घबराएं नहीं, बल्कि हिम्मत से पत्नी के सहयोग से आगे बढ़ कर परिवार की जिम्मेदारियां निभाएं, और रही बात बोलने में दिक्कत की, तो हो सकता है गले में कोई दिक्कत हो. इसे तुरंत डाक्टर को दिखाएं. यकीन मानिए, स्पीच थेरैपी से आप की समस्या हल हो जाएगी और फिर आप को किसी के सामने शर्मिंदगी महसूस नहीं होगी.

ये भी पढ़ें- मेरा कलीग मुझे ब्लैकमेल कर रहा है, मैं क्या करूं?

Tags:
COMMENT