सवाल

मैं हाउसवाइफ हूं. घर का, बच्चों का, पति का पूरा ध्यान रखती हूं, तब भी आएदिन कभी बच्चे, कभी पति तो कभी मैं खुद कुछ न कुछ शारीरिक तकलीफ झेलते रहते हैं. मैं सोचती हूं कि मैं सब का इतना ध्यान रखती हूं तो फिर सब ठीकठाक क्यों नहीं? आप बताएं कि रोजमर्रा की जिंदगी में क्या ध्यान दूं जिस से कि हम सब स्वस्थ जीवन जिएं.

जवाब

जिंदगी है तो शारीरिक कष्ट तो लोगों के साथ लगे ही रहते हैं. बस किसी के साथ कम तो किसी के साथ ज्यादा शारीरिक कष्ट लगे रहते हैं. आप कहती हैं कि घर में सब का ध्यान रखती हैं तो एक बार आप को बता दें कि ध्यान रखने का मतलब यह नहीं होता कि आप बच्चों व पति की खुशी के लिए खानेपीने की उन की हर जायजनाजायज बात मान कर पूरी कर दें. आप एक हैल्दी लाइफ जीने की कोशिश कीजिए और बच्चों और पति को भी ऐसा करने के लिए प्रेरित कीजिए.

कुछ आसान सी बातों को आप अपनाएंगी तो परिवार में सभी का स्वास्थ्य बरकरार रहेगा. जैसे गेहूं का आटा छानें नहीं, नमक का उपयोग कम से कम करें. दोपहर व रात का खाना खाने से पहले सलाद खाएं. दिनभर में सब से कम खाना डिनर में हो. भोजन को निगलें नहीं, चबाचबा कर खाएं. एकदम ज्यादा व एकदम कम भी खाना न खाएं. सब्जियों का छिलका मोटा छीलें नहीं, मामूली सा स्क्रब करें. खाने में पीली, नारंगी व हरी सब्जियां उपयोग अवश्य करें. फास्टफूड व पैकेटफूड हृदय के लिए नुकसानदायक हैं. उम्र बढ़ने के साथसाथ खाना भी कम कर दें. यदि आप रोजमर्रा के खाने में ये सब बातें याद रखेंगी तो घर में सब स्वस्थ बने रहेंगे.

आगे की कहानी पढ़ने के लिए सब्सक्राइब करें

डिजिटल

(1 साल)
USD10
 
सब्सक्राइब करें

डिजिटल + 24 प्रिंट मैगजीन

(1 साल)
USD79
 
सब्सक्राइब करें
और कहानियां पढ़ने के लिए क्लिक करें...