उन्नाव के विधायक कुलदीप सेंगर के बाद पूर्व केंद्रीय गृह राज्यमंत्री और बीजेपी के नेता स्वामी चिन्मयानंद पर लगे आरोप उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के गले की फांस बन गये है. उन्नाव और शाहजहांपुर की घटना के बहाने योगी आदित्यनाथ की जातीय घेराबंदी की जा रही है. दोनों मामले में मुख्यमंत्री की बदनामी का सबब बन रही है. असल में कुलदीप सेंगर और स्वामी चिन्मयानंद दोनो ही ठाकुर जाति के लोग है. कुलदीप सेंगर के मामले में योगी के साथ उत्तर प्रदेश के डीजीपी तक पर जातिगत आधार पर आरोप लगाये गये थे. स्वामी चिन्मयानंद के मामलें में जाति के साथ ही साथ संत की छवि और पहनावा भी आरोपों को हवा देने का काम कर रही है.

इस बारे में खुद स्वामी चिन्मयानंद ने कहा कि मेरी बदनामी की आड़े में मुख्यमंत्री की छवि को नुकसान पहुंचाने की साजिश रची जा रही है. मैं पूरी तरह से निर्दोश हूं. उन्नाव कांड में भी विधायक कुलदीप सेंगर ने कहा कि लड़की के साथ हुई सडक हादसे से मेरा कोई मतलब नहीं है. कुलदीप मामले में पीड़ीता लडकी और उसके परिवार के साथ हुये सडक हादसे की जांच कर रही सीबीआई कोर्ट के आदेश के बाद भी 45 दिन में मामले की चार्जशीट दाखिल नहीं कर पा रही है. सीबीआई बारबार से कोर्ट से समय बढाने की मांग कर रही है.

खुद ही राजस्थान गई लड़की: 

जिस लड़की के गायब होने का आरोप स्वामी चिन्मयानंद पर लग रहा था वह खुद ही अपने दोस्त के साथ राजस्थान गई थी. एलएलएम यानि मास्टर औफ लौ की पढ़ाई करने वाली छात्रा ने 24 अगस्त 2019 को एक वीडियो सोशल मीडिया पर पोस्ट करके पूर्व केंद्रीय गृह राज्यमंत्री और बीजेपी के नेता स्वामी चिन्मयानंद पर शोषण का आरोप लगाया. इसके बाद लड़की गायब हो गई. 30 अगस्त को लड़की के पिता ने शाहजहांपुर कोतवाली में धारा 364 और धारा 506 के तहत मुकदमा दर्ज कराया. पुलिस ने चिन्मयानंद के खिलाफ धमकी और अपहरण की धाराओं में केस दर्ज कर लड़की तलाश शुरू कर दी. लड़की तलाश के लिये पोस्टर लगाये गये. जिसको लेकर लड़की की जानकारी उजागर करने आरोप पुलिस को झेलना पड़ा.

ये भी पढ़ें- उन्नाव रेप कांड: अपराध को बढ़ाता राजनीतिक संरक्षण

इस दौरान उच्च न्यायलय ने मामले का संज्ञान लेते हुये सनुवाई शुरू कर दी. जस्टिस आर भानुमति और एएस बोपन्ना ने कहा कि लड़की को अकेला नहीं छोड सकते. कानून लड़की और उसके अधिकारों की रक्षा करेगा. लड़की और उसके भाई को सरकारी सुरक्षा में मनचाही जगह पर पढ़ने का अधिकार है. इस बीच छात्रा की बरामदगी राजस्थान से की गई. वहां से उसे दिल्ली ले जाया गया.

उत्तर प्रदेश के डीजीपी ओपी सिंह ने बताया ‘बीजेपी नेता और पूर्व केंद्रीय मंत्री स्वामी चिन्मयानंद ने इस संबंध में एक एफआईआर दर्ज कराई थी. एफआईआर के मुताबिक लड़की (ला छात्रा) उनसे 5 करोड़ रुपये मांग रही थी और पैसे न देने पर मीडिया में जाने की धमकी दी थी. इस मामले में उचित कानूनी कार्रवाई की जाएगी. ‘ कुलदीप सेंगर और चिन्मयानंद मामले में जितनी जल्दी कोर्ट का फैसला आयेगा. सच्चाई पर से परदा उतनी जल्दी ही उठेगा. सच बाहर आने तक इसकी आड़ में राजनीतिक रोटियां भी सेंकी जाती रहेगी. राजनीतिक कारणों से ही यह मसले इतने उलझ गये है कि इनका सच बाहर आना सरल नहीं रह गया है.

ये भी पढ़ें- क्या मंजिल तक पहुंच पाएगी स्वाभिमान से संविधान यात्रा

Tags:
COMMENT