चीन से निकले कोरोना वायरस की दहशत ने दुनिया का चक्का जाम कर रखा है. कामधंधे ठप हैं, व्यापार चौपट हैं और लगभग हर देश अपनी डूबती अर्थव्यवस्था को ले कर चिंतित है. मगर आश्चर्यजनक रूप से चीन ने न सिर्फ कोरोना पर पूरी तरह काबू पा लिया बल्कि 2021 की पहली तिमाही में उस की अर्थव्यवस्था ने गजब का उछाल दर्ज किया है. दुनिया को पीछे छोड़ती चीन के विकास की बुलेट ट्रेन जिस रफ्तार से भाग रही है उस ने अमेरिका और यूरोप की चिंता बढ़ा दी है. भारत तो अब कहीं है ही नहीं.

40 वर्षों में चीन की शानदार आर्थिक और सैन्य वृद्धि के बाद उस का मनमाना रवैया और हर क्षेत्र में चीन का बढ़ता वर्चस्व अमेरिका के लिए खतरे की घंटी है. दुनियाभर के बाजारों पर चीन का कब्जा, बंदरगाहों पर चीनी फौजों का जमावड़ा, उस के परमाणु हथियारों की बढ़ती ताकत, चीनी कर्जे में डूबते जा रहे विकासशील देश, लगातार अपनी सीमाओं को नाजायज तरीके से बढ़ाने की कोशिश और इस सब के बीच अचानक चीन से शुरू हुआ कोरोना बम विस्फोट.

ये भी पढ़ें- भारत भूमि युगे युगे: किसके बेबी का बम्प

चीन में यह कब, कैसे और कहां पैदा हुआ, इस का जवाब देने के लिए चीन तैयार नहीं है. वह इस बात की जांच भी नहीं होने देना चाहता है. चीन अपनी लैब में अमेरिकी चिकित्सकों व वैज्ञानिकों की टीम को घुसने की इजाजत देने को तैयार नहीं है. चीन की इस हरकत से अमेरिका का पारा चढ़ा हुआ है. बीते माह दक्षिणपश्चिमी इंग्लैंड में हुए जी-7 सम्मलेन में अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन ने साफ कहा, ‘हम चीन की प्रयोगशाला तक नहीं जा पाए.’

साथ ही मिलेगी ये खास सौगात

  • 5000 से ज्यादा फैमिली और रोमांस की कहानियां
  • 2000 से ज्यादा क्राइम स्टोरीज
  • 300 से ज्यादा ऑडियो स्टोरीज
  • 50 से ज्यादा नई कहानियां हर महीने
  • एक्सेस ऑफ ई-मैगजीन
  • हेल्थ और ब्यूटी से जुड़ी सभी लेटेस्ट अपडेट
  • समाज और राजनीति से जुड़ी समसामयिक खबरें
Tags:
COMMENT