उत्तर प्रदेश और बिहार में लोकसभा की 3 और विधानसभा की 2 सीटों के लिये हुये उपचुनाव में भाजपा को करारी मात मिली. उत्तर प्रदेश की 2 लोकसभा सीटों में गोरखपुर और फूलपुर से उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और उपमुख्यमंत्री केशव मौर्य साल 2014 में सांसद बने थे. उस समय फूलपुर में केशव मौर्य को 52 फीसदी और योगी आदित्यनाथ को 51 फीसदी वोट मिले थे.

बिहार में अरहरिया लोकसभा सीट पर राष्ट्रीय लोकदल यानि आरजेडी के तस्लीमुददीन सांसद बने थे. बिहार की भभुवा और जहानाबाद में विधानसभा के उपचुनाव थे. जहानाबाद में मुद्रिका सिंह यादव आरजेडी से जीते थे और भभुवा से भाजपा के आनंद भूषण पांडेय चुनाव जीते थे. उत्तर प्रदेश में योगी आदित्यनाथ के मुख्यमंत्री और केशव मौर्य के उपमुख्यमंत्री बनने के बाद यहां उपचुनाव हुये. जबकि बिहार में तीनों सीटों से चुने गये प्रत्याशियों के न रहने से सीटे खाली हुई थी.

भाजपा के लिये उत्तर प्रदेश की गोरखपुर और फूलपुर सीट सबसे खास थी. गोरखपुर मुख्यमंत्री का क्षेत्र था. फूलपुर उपमुख्यमंत्री का क्षेत्र था. ऐसे में किसी को यह गुमान नहीं था कि भाजपा की यह हालत हो जायेगी. 2014 के लोकसभा चुनाव के बाद 2017 के विधानसभा चुनाव में मिली जीत के बाद भाजपा की जीत पर किसी को कोई सुबहा नहीं रह गया था. 2017 में विधानसभा में मिली जीत के बाद भाजपा को करारी मात मिली. उत्तर प्रदेश में ही नहीं बिहार में भी भाजपा ने सरकार में शामिल होने के बाद खराब प्रदर्शन किया. उत्तर प्रदेश और बिहार के इन उपचुनावों के संकेत बड़े हैं. इनका असर मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़, राजस्थान, कर्नाटक के विधानसभा चुनाव पर पड़ेगा. उपचुनावों के नतीजों से साफ हो गया है कि ‘मोदी-योगी मैजिक’ अब अपनी चमक खो रहा है.

साथ ही मिलेगी ये खास सौगात

  • 5000 से ज्यादा फैमिली और रोमांस की कहानियां
  • 2000 से ज्यादा क्राइम स्टोरीज
  • 300 से ज्यादा ऑडियो स्टोरीज
  • 50 से ज्यादा नई कहानियां हर महीने
  • एक्सेस ऑफ ई-मैगजीन
  • हेल्थ और ब्यूटी से जुड़ी सभी लेटेस्ट अपडेट
  • समाज और राजनीति से जुड़ी समसामयिक खबरें
COMMENT