उत्तरप्रदेश के बांदा जिले के लोहारी गाँव का 25 वर्षीय सूरज वर्मा आगरा की जिस प्राइवेट कंपनी में काम करता था वह लॉकडाउन के चलते बंद हो गई तो वह परिवार सहित अपने गाँव लोहारी वापस आ गया. लोहारी में भी उसे कोई काम नहीं मिला तो उसने 14 मई को फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली. सूरज की शादी कोई सवा साल पहले कोर्रम गाँव की रजनी से हुई थी इन दोनों को इस साल के शुरुआत में ही एक बेटी हुई थी जो 8 दिन बाद ही गुजर गई थी लेकिन लॉकडाउन इनकी ज़िंदगी में उससे भी बड़ा कहर बनकर आया.

Tags:
COMMENT