गरीब और मजदूर कंही रेल गाड़ी की पटरी पर सोते हुए ट्रैन के नीचे आ कर कट जा रहे है, तो कंही सड़क पर किसी बड़े वाहन के नीचे कुचल जा रहे, कंही भूख और प्यास से रास्ते मे ही दम तोड़ दे रहे. कई बार घर पहुचते पहुचते इस हालत के हो जाते है की वँहा पहुँच कर जान गंवा दे रहे. मज़दूरो की हालत बताती है कि देश और प्रदेश की सरकारों को उनकी कोई चिंता नहीं है.

सोशल मीडिया के जरिये देश की जनता की आंखों के सामने गरीब मजदूरों की हालत साफ साफ दिख रही है. ऐसी तस्वीरों को देश ही नही पूरी दुनिया देख रही है. विश्वगुरु बनने की दिशा में बढ रहे भारत मे  गरीब और मजदूरों के हालात किस कदर बिगड़े हुए है.

ये भी पढ़ें-लोकल की बात और विदेशी कंपनियों का साथ

गरीब मजदूरों का पलायन भारत की छवि को विश्व स्तर पर बुरी तरीके से प्रभावित कर रहा है यह बात अब बंद शब्दों में केंद्र सरकार की तारीफ करने वाले लोग समझ रहे हैं . सरकार ने बस, रेल और हवाई जहाज से प्रवासियों को अपने घरों तक ले जाने का दिखावा कर   वाहवाही लूटने का प्रयास किया. अखबारों में खबरों के जरिये इन बातों का प्रचार भी किया गया.

जब मजदूर और गरीबो का हुजूम सड़को पर दिखने लगा तब सबकी आंखे खुली की खुली रह गई कि यह गरीब और मजदूर कौन है ? जनता की सहानुभूति मजदूरों के साथ बढ़ने लगी. लोगो को यह साफ होने लगा था कि सरकार मजदूरों के नाम पर छलावा और दिखावा दोनो कर रही है. मजदूरों के साथ होने वाली दुर्घटनाओं से जनता के मन मे उपजी सहानुभूति से सरकार की बाते अब लोग सुन नहीं रहे है.

आगे की कहानी पढ़ने के लिए सब्सक्राइब करें

सरिता डिजिटल

डिजिटल प्लान

USD4USD2
1 महीना (डिजिटल)
  • 5000 से ज्यादा फैमिली और रोमांस की कहानियां
  • 2000 से ज्यादा क्राइम स्टोरीज
  • 300 से ज्यादा ऑडियो स्टोरीज
  • 50 से ज्यादा नई कहानियां हर महीने
  • एक्सेस ऑफ ई-मैगजीन
  • हेल्थ और ब्यूटी से जुड़ी सभी लेटेस्ट अपडेट
  • समाज और राजनीति से जुड़ी समसामयिक खबरें
सब्सक्राइब करें

डिजिटल प्लान

USD48USD10
12 महीने (डिजिटल)
  • 5000 से ज्यादा फैमिली और रोमांस की कहानियां
  • 2000 से ज्यादा क्राइम स्टोरीज
  • 300 से ज्यादा ऑडियो स्टोरीज
  • 50 से ज्यादा नई कहानियां हर महीने
  • एक्सेस ऑफ ई-मैगजीन
  • हेल्थ और ब्यूटी से जुड़ी सभी लेटेस्ट अपडेट
  • समाज और राजनीति से जुड़ी समसामयिक खबरें
सब्सक्राइब करें

प्रिंट + डिजिटल प्लान

USD100USD79
12 महीने (24 प्रिंट मैगजीन+डिजिटल)
  • 5000 से ज्यादा फैमिली और रोमांस की कहानियां
  • 2000 से ज्यादा क्राइम स्टोरीज
  • 300 से ज्यादा ऑडियो स्टोरीज
  • 50 से ज्यादा नई कहानियां हर महीने
  • एक्सेस ऑफ ई-मैगजीन
  • हेल्थ और ब्यूटी से जुड़ी सभी लेटेस्ट अपडेट
  • समाज और राजनीति से जुड़ी समसामयिक खबरें
सब्सक्राइब करें
और कहानियां पढ़ने के लिए क्लिक करें...