भारतीय जनता पार्टी बारबार यह दावा करती है कि वह जाति की राजनीति नहीं करती. इसके बाद भी उत्तर प्रदेश की योगी सरकार के मंत्रिमंडल के विस्तार में जाति का असर साफ देखा जा सकता है. मंत्रिमंडल विस्तार में 23 मंत्रियों को शपथ दिलाई गई. उनमें सबसे अधिक 6 मंत्री ब्राहमण समाज से लिये गये. भाजपा ने अपने सवर्ण वोट बैंक में दूसरा स्थान वैश्य वर्ग को दिया वैश्य बिरादरी से 3 को मंत्री बनाया गया. ठाकुर वर्ग से केवल 2 लोगों को मंत्रिमंडल में जगह दी गई. पिछड़ी जातियों में एक गंर्जर, एक पाल, दो कर्मी, दो जाट, एक राजभर, एक कश्यप और एक लोध के अलावा अनुसूचित जाति के 3 लोगों को मंत्रिमंडल में षामिल किया गया. मंत्रिमंडल विस्तार के साथ योगी मंत्रिमंडल की संख्या बढ़कर 56 हो गई है.

Tags:
COMMENT