पहले भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने ‘कसाब’ का विश्लेषण करते हुए उसकी संज्ञा कांग्रेस-समाजवादी पार्टी और बसपा से कहा था. अब प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने समाजवादी पार्टी, राष्ट्रीय लोकदल और बसपा को ‘शराब’ कहा ऐसे ही मुददों से चुनाव प्रचार में जमीनी मुद्दे विकास, कालाधन, बेरोजगारी, चुनाव सुधार, जीएसटी, नोटबंदी, कालाधन  और अपराध जैसे मुददे चर्चा से बाहर हो रहे हैं. भारतीय जनता पार्टी ने 2014 के लोकसभा चुनावों में जब नरेन्द्र मोदी को प्रधानमंत्री पद का उम्मीदवार घोषित किया तब नरेन्द्र मोदी ने धर्म की राजनीति को दरकिनार करके विकास की राजनीति पर जोर दिया.

कांग्रेस की अगुवाई वाली यूपीए की सरकार के 10 साल के कुशासन से परेशान देश की जनता को लगा कि नरेन्द्र मोदी भाजपा की धर्म की राजनीति से दूर होकर देश में विकास की राजनीति करेंगे. प्रधानमंत्री बनने के बाद नरेन्द्र मोदी ने स्वच्छता अभियान, ग्रामीण आवास और महिलाओं को घरेलू गैस जैसी प्रमुख योजनाओं को आगे बढाने का काम भी किया. इसके बाद वह कांग्रेस वाली योजनाओं आधार कार्ड, जीएसटी और नोटबंदी जैसी योजनाओं को लागू करने लगे. इन योजनाओं के फेल होने का प्रभाव नरेन्द्र मोदी की सोंच पर पड़ा और वह 2019 के लोकसभा चुनाव में राष्ट्रवाद, आतंकवाद, पाकिस्तान और राम मंदिर की राह पर वापस लौट आये.

विकास से शुरू हुआ नरेन्द्र मोदी का राजनीतिक सफर धर्म और राष्ट्रवाद पर आकर टिक गया. 2014 में विकास, कालाधन, बेरोजगारी, चुनाव सुधार और अपराध के खिलाफ बात जंग लड़ने की बातें बेमानी हो गई. 2019 के चुनाव प्रचार में नरेंद्र मोदी पाकिस्तान और राष्ट्रवाद की बहस से जीत हासिल करना चाहते है. इसके लिये व्यापक रूप से प्रचार मध्यमों का प्रयोग किया जा रहा है.  प्रचार की इस जदोजहद में जनता के अपने मुददे दूर हो गये है. लोकसभा चुनाव में मुददों को दरकिनार करके जुमलों को उछला जा रहा है.

आगे की कहानी पढ़ने के लिए सब्सक्राइब करें

सरिता डिजिटल

डिजिटल प्लान

USD4USD2
1 महीना (डिजिटल)
  • 5000 से ज्यादा फैमिली और रोमांस की कहानियां
  • 2000 से ज्यादा क्राइम स्टोरीज
  • 300 से ज्यादा ऑडियो स्टोरीज
  • 50 से ज्यादा नई कहानियां हर महीने
  • एक्सेस ऑफ ई-मैगजीन
  • हेल्थ और ब्यूटी से जुड़ी सभी लेटेस्ट अपडेट
  • समाज और राजनीति से जुड़ी समसामयिक खबरें
सब्सक्राइब करें

डिजिटल प्लान

USD48USD10
12 महीने (डिजिटल)
  • 5000 से ज्यादा फैमिली और रोमांस की कहानियां
  • 2000 से ज्यादा क्राइम स्टोरीज
  • 300 से ज्यादा ऑडियो स्टोरीज
  • 50 से ज्यादा नई कहानियां हर महीने
  • एक्सेस ऑफ ई-मैगजीन
  • हेल्थ और ब्यूटी से जुड़ी सभी लेटेस्ट अपडेट
  • समाज और राजनीति से जुड़ी समसामयिक खबरें
सब्सक्राइब करें

प्रिंट + डिजिटल प्लान

USD100USD79
12 महीने (24 प्रिंट मैगजीन+डिजिटल)
  • 5000 से ज्यादा फैमिली और रोमांस की कहानियां
  • 2000 से ज्यादा क्राइम स्टोरीज
  • 300 से ज्यादा ऑडियो स्टोरीज
  • 50 से ज्यादा नई कहानियां हर महीने
  • एक्सेस ऑफ ई-मैगजीन
  • हेल्थ और ब्यूटी से जुड़ी सभी लेटेस्ट अपडेट
  • समाज और राजनीति से जुड़ी समसामयिक खबरें
सब्सक्राइब करें
और कहानियां पढ़ने के लिए क्लिक करें...