आमलोग गुंडेमवालियों से ज्यादा खौफ खाते हैं या पुलिस वालों से, इस सवाल का जवाब निष्पक्षता से दिया जाए तो औसत नतीजा पुलिस वालों के हक में तो नहीं निकलने वाला. पुलिस वालों को ऐसा क्या करना चाहिए जिस से उन की छवि सुधरे. इस बाबत प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कच्छ के रण में आयोजित 3 दिवसीय सम्मेलन में देशभर के पुलिस निदेशकों को महत्त्वपूर्ण टिप्स दिए. इन में से एक अहम यह था कि पुलिस वालों को थानों में आम लोगों की उपलब्धियों का जश्न मनाना चाहिए. बात में दम इस लिहाज से है कि वाकई थानों का बाहरी माहौल बेहद खौफनाक सा रहता है. वैसे देशभर के थानों में अंदरूनी और कथित तौर पर रोज दारू, मुरगा पार्टियां होती रहती हैं. बस इस में आम लोग नहीं, बल्कि खास लोग होते हैं जो इन पार्टियों को स्पौंसर करते हैं.

आगे की कहानी पढ़ने के लिए सब्सक्राइब करें

सरिता डिजिटल

डिजिटल प्लान

USD4USD2
1 महीना (डिजिटल)
  • 5000 से ज्यादा फैमिली और रोमांस की कहानियां
  • 2000 से ज्यादा क्राइम स्टोरीज
  • 300 से ज्यादा ऑडियो स्टोरीज
  • 50 से ज्यादा नई कहानियां हर महीने
  • एक्सेस ऑफ ई-मैगजीन
  • हेल्थ और ब्यूटी से जुड़ी सभी लेटेस्ट अपडेट
  • समाज और राजनीति से जुड़ी समसामयिक खबरें
सब्सक्राइब करें

डिजिटल प्लान

USD48USD10
12 महीने (डिजिटल)
  • 5000 से ज्यादा फैमिली और रोमांस की कहानियां
  • 2000 से ज्यादा क्राइम स्टोरीज
  • 300 से ज्यादा ऑडियो स्टोरीज
  • 50 से ज्यादा नई कहानियां हर महीने
  • एक्सेस ऑफ ई-मैगजीन
  • हेल्थ और ब्यूटी से जुड़ी सभी लेटेस्ट अपडेट
  • समाज और राजनीति से जुड़ी समसामयिक खबरें
सब्सक्राइब करें

प्रिंट + डिजिटल प्लान

USD100USD79
12 महीने (24 प्रिंट मैगजीन+डिजिटल)
  • 5000 से ज्यादा फैमिली और रोमांस की कहानियां
  • 2000 से ज्यादा क्राइम स्टोरीज
  • 300 से ज्यादा ऑडियो स्टोरीज
  • 50 से ज्यादा नई कहानियां हर महीने
  • एक्सेस ऑफ ई-मैगजीन
  • हेल्थ और ब्यूटी से जुड़ी सभी लेटेस्ट अपडेट
  • समाज और राजनीति से जुड़ी समसामयिक खबरें
सब्सक्राइब करें
और कहानियां पढ़ने के लिए क्लिक करें...