ऐसा शायद सट्टे के ज्ञात इतिहास में पहली बार हो रहा है कि खाईबाजों की नींद उडी हुई है. यहां बात चुनावी सट्टे की जा रही है जिसमें सटोरिये गच्चा खा गए हैं और जैसे-तैसे संभावित नुकसान की भरपाई करने चाहते हैं कि ज्यादा से ज्यादा लोग इस बात पर पैसा लगाएं कि इस बार भी भाजपा को सबसे ज्यादा सीटें मिल रही हैं और एनडीए आखिरकार फिर से सरकार बना ले जाएगा. इस बाबत सट्टा सिटी के नाम से मशहूर इंदौर सहित पूरे देश भर के सटोरिये जी जान से जुटे हुये भी हैं.

Tags:
COMMENT