बिहार के मुजफ्फरपुर लीची खाने से बच्चों की मौत के मामले में लीची को खलनायक बना दिया गया है. असल में मरने वाले बच्चे कुपोषण का शिकार थे. कुपोषण के शिकार बच्चे प्रशासन की व्यवस्था की पोल खोल रहे हैं. ग्रामीण स्तर पर बच्चों के कुपोषण को दूर करने के लिये आंगनबाड़ी और मिडडे मील जैसी योजनायें भी चल रही है. इसके बाद भी बच्चे कुपोषण का शिकार हो रहे हैं. पूरे बिहार में 300 से अधिक बच्चो की जान गई है.

Tags:
COMMENT