दूसरे कई कामों और क्रियाओं की तरह नहाना वह भी अपने  खुद के  बाथरूम में निहायत ही व्यक्तिगत बात और मामला है, जिसका कम से कम स्वच्छ भारत अभियान से कोई ताल्लुक अभी तक तो सरकारी या गैर सरकारी स्तर पर नहीं था पर अब हुआ तो देश भर में हंगामा मचा हुआ है. कोई दूसरा बाथरूम में कैसे नहाता है इस पर जिज्ञासा हो सकती है लेकिन कोई सर्वे या शोध अभी तक इस क्षुद्र विषय पर नहीं हुआ है. नहाने का सबका अपना एक अलग स्टाइल होता है, कोई बाथरूम में घुसते ही नल या फव्वारा चलाकर हर हर गंगे जैसे मंत्रोच्चारण शुरू कर देता है तो कोई बहुत देर तक पानी छपाछप कर अपने आप में नहाने की हिम्मत पैदा करता है कई कई लोग बाथरूम सिंगर होते हैं जो शरीर की सफाई फिल्मी गानों के साथ करते हैं.

COMMENT