किसी भी संबंध में झगड़े और तकरार होना स्वभाविक है. बल्कि छोटी-छोटी तकरारें आपके रिश्तों को और बेहतर बनाती हैं. लेकिन अगर इन छोटे- छोटे झगड़ों को सही नहीं किया गया तो ये आपके रिश्तों में दूरियां भी बना सकती हैं. आपको लगता है कि रिश्ते में इतना प्यार है और समझदारी है तो बात-बात पर झगड़े क्यों होते हैं.

क्या आप जानते हैं कि इसके पीछे क्या वजह हो सकती हैं. आपकी जिंदगी के हर रोज की छोटी चीजें और बातें आपके रिश्ते में तकरार का कारण बन सकती हैं. आइए जानते हैं कौन से कारण हैं जो आपके रिश्ते में तकरार पैदा कर रहे हैं.

सगे-सम्बंधियों से मतभेद

ऐसा होता है कि आपके विचार और आपके साथी के सगे-सम्बंधियों के विचार अलग-अलग हों और उन्हें लेकर झगड़ा होना लाजमी है. आप अपने संबंधियों से ना ही अलग हो सकते हैं और ना ही पीछा छुड़ा सकते हैं चाहें फिर वो आपसे कितनी भी दूर क्यों ना हो.

आर्थिक समस्याएं

रिश्तों में पैसा भी एक समस्या है. आप कितना कमाते हैं और आपका साथी कितना कमाता है. आप में से जो भी ज्यादा कमाता है उस के विचारों में ये बात आ ही जाती है कि वो रिश्ते को चला रहा है और इस पर विवाद होना आम बात है. साथ ही घर के और बच्चों के खर्चों को लेकर झगड़े भी आपके रिश्तों में दरार डाल सकते हैं. कभी कभी आर्थिक समस्याएं होने के कारण भी लोग परेशान हो जाते हैं और इससे भी तकरार होने लगती हैं.

बच्चों के फैसले लेने में झगड़ा

शादी के बाद परिवार को संभालना एक बड़ी जिम्मेदारी होती है और आप इस जिम्मेदारी को बखूबी निभाने के लिये कभी-कभी अधिक संवेदनशील हो जाते हैं. जिसके कारण आप अपने साथी के फैसलों को भी अनदेखा करने लगते हैं. अधिकतर झगड़े इस बात पर होते हैं कि बच्चों के लिये बेहतर फैसला कौन लेगा. बच्चे की परवरिश के लिए आप काफी चिंतित होते हैं लेकिन आपको ध्यान रखना चाहिए कि आपका साथी भी उसी मनोस्थिति में हैं.

एक-दूसरे को दोषी ठहराना

एक चीज जो हम में से अधिकतर लोग करते हैं वो यही है कि हम अपनी गलती को अनदेखा करके दूसरे इंसान की तरफ अंगुली उठा देते हैं. जब भी कोई गलत चीज होती है तो आप अपने साथी को दोषी ठहरा देते हैं. इससे झगड़े तो होते ही हैं साथ ही आपका रिश्ता भी अधिक नहीं चल पाता. बेहतर होगा कि एक-दूसरे को दोषी ठहराने की जगह आप उस विषय पर बात करें. अगर आपके साथी की गलती भी है तो उन्हें बताएं और उसे सुलझाने की कोशिश करें.

Tags:
COMMENT