सुंदर और बेदाग चेहरे की चाहत भला किसे नहीं होती. अक्सर हम अपने चेहरे पर निखार पाने के लिए चेहरे पर फेस मास्क या फेस पैक लगाते हैं. वैसे तो यह त्वचा को सुन्दर बनाने का आसान और असरदार तरीका है. पर कई बार इसे लगाने के बावजूद हम संतुष्ट नहीं होते. इसकी वजह है फेस मास्क को सही तरीके से न लगाना. अपने मास्क से सर्वोत्तम निखार पाने के लिये आप नीचे दिये गये उपायों को अपना सकती हैं.

– सबसे जरूरी बात ये है कि यदि आप घर में बने हुए फेस पैक का इस्तेमाल कर रहीं हैं तो हर बार ताजा बना कर ही प्रयोग करें. लंबे समय से रखा फेस मास्क लगाने से आपके चेहरे पर एलर्जी हो सकती है.

– फेसमास्क लगाने से पहले आंखों को आराम पहुंचाने वाले खीरे अथवा आलू के पतले दो चिप्स काट लें.

– अब इन सभी वस्तुओं को तब तक के लिये फ्रिज में ठंडा होने के लिये रख दें जब तक कि आप इन्हें प्रयोग करने के लिये तैयार न हों. इस दैरान अपने चेहरे को अच्छी तरह से धुल कर साफ कर लें.

– अपनी त्वचा को स्क्रब की मदद से साफ करें इससे त्वचा की मृत कोशिकायें हट जाती हैं और मास्क को बेहतर तरीके से अवशोषित होने में मदद मिलती है.

– अब चेहरे को 2 मिनट के लिये भाप दें जिससे रोम छिद्र खुल जायें. इसके विकल्प के रूप में आप एक साफ-सुथरे कपड़े को गर्म पानी में भिगो कर चहरे को तब तक के लिए ढकें जब तक कि वह ठंडा न हो जाये. ध्यान रहे पानी उतना ही गर्म हो जितना कि आप चेहरे पर बर्दाश्त कर सकें.

– फेस मास्क लगाने वाले ब्रश के साथ ही साथ रूई के फाहे और मुंह पोछने का कपड़ा भी साथ रखें.

– अब फेस मास्क लगाने वाले ब्रश की मदद से फेस मास्क को चेहरे पर लगायें. यदि आपके पास ब्रश न हो तो मास्क को हाथों से लगाने से पूर्व उन्हें अच्छी तरह से धो कर सुखा लें.

– मास्क लगाने के बाद खीरे या आलू के टुकड़ों को आंखों पर रख कर उत्पाद के निर्देशानुसार मास्क के सूखने का इंतजार करें. बत्तियां बुझा दें. इस प्रकार का वातावरण शांति प्रदान करता है.

– निश्चित समय तक इंतजार करने के उपरांत मास्क को गीले कपड़े अथवा रूई के फाहों से पोंछ दें. मिट्टी के मास्क की स्थिति में जब वह सूखने लगे तो धुलना बेहतर होता है. लेकिन यह प्रयास करें कि मिट्टी का मास्क चेहरे पर पूरी तरह से सूखने न पाये.

– मिट्टी के मास्क को चेहरे पर पूरी तरह से नहीं सूखने देना चाहिये क्योंकि ऐसी स्थिति में चेहरे पर झुर्रियां और पतली रेखायें पड़ जाती हैं और मिट्टी सूख जाने के कारण त्वचा से ही परासरण द्वारा नमी चुराने लगती है.

Tags:
COMMENT