एक खास उम्र के पड़ाव पर आ कर शरीर की बहुत सी चीजें कमजोर पड़ने लगती हैं. एक खास उम्र में  कर हमारे शारीरिक और मानसिक विकास में काफी कमजोरी देखी जाती है. हाल ही में हुए एक शोध में ये बात सामने आई कि बढ़ते उम्र के साथ मानसिक तौर पर आने वाली कमजोरी को ठीक किया जा सकता है. इसके लिए जरूरी है कि आप शारीरिक और मानसिक तौर पर अधिक सक्रिय रहें. इसके लिए आप पढ़ने की आदत डाल सकते हैं. इसके अलावा वाद्ययंत्र बजाना, सामूहिक गायन, बागवानी करना, विभिन्न कार्यक्रमों में जाना जैसी चीजें कर सकते हैं. इससे आपका याद्दाश्त अच्छी रहेगी.

स्वीडन में हुए इस शोध में जानकारों का मानना है कि अधेड़ उम्र में होने वाली मानसिक कमजोरियों को दूर करने के लिए मानसिक और शारीरिक तौर पर सक्रिय रहना बेहद जरूरी है. इससे बुढ़ापे में याद्दाश्त का कमजोर होने को कम किया जा सकता है.

जानकारों की माने ते ये तरीका काफी कारगर और बेहतरीन है. इसमें खुद को स्वस्थ करने के लिए लोगों को बहुत पैसा खर्च करने की भी जरूरत नहीं है. बिना पैसा खर्च किए आम चीजों में खुद को लगा कर याद्दाश्त जैसी बेहद जरूरी चीज को अच्छा किया जा सकता है. स्वीडन में 800 महिलाओं पर यह अध्ययन किया गया जिनकी औसत उम्र 47 थीं.

Tags:
COMMENT