लड़के और लड़कियां 2 अलग जैंडर हैं जिन का व्यवहार, पर्सनैलिटी, पसंदनापसंद और सोचविचार सभी इसी जैंडर पर निर्भर करते हैं. निर्भर इसलिए करते हैं क्योंकि बचपन से ही उन के चुनाव इसी जैंडर से प्रभावित होते हैं. लड़की है तो पिंक, लड़का है तो ब्लू, लड़की है तो बार्बी डौल, लड़का है तो एयरोप्लेन, लड़की है तो घरघर, लड़का है तो चोरपुलिस. बस, इसी के चलते 2 अलग जैंडर हमेशा के लिए अलग हो कर रह जाते हैं.

Tags:
COMMENT