दूध को पूर्ण आहार कहा जाता है. दूध में प्रौटीन, फैट, कार्बोहाइड्रेट के साथ ही कई विटामिन और मिनरल भी होते हैं जो अच्छी सेहत के लिए जरूरी हैं.

इन्हीं फायदों की वजह से बच्चों को दूध पीने की सलाह दी जाती है. हाल ही में हुए एक अध्ययन के अनुसार, हर रोज एक गिलास गरम दूध पीने से स्वास्थ्य बेहतर रहता है और वह लोग जो दूध पीते हैं वे दूध न पीने वालों की तुलना में चाय, कौफी और शराब का सेवन कम करते हैं. लेकिन दूध का पूरा फायदा पाने के लिए जरूरी है कि इसे सही समय पर लिया जाए. दूध का गलत मात्रा में और गलत तरीके से इस्तेमाल करने से अपचन, खट्टी डकारें, गैस, सीने में जलन और यहां तक की स्किन एलर्जी जैसी समस्याएं हो सकती हैं.

सही समय : रात के समय दूध का सेवन करना सब से ज्यादा फायदेमंद होता है क्योंकि दूध में (ट्रिप्टोफेन) ञ्जह्म्4श्चह्लशश्चद्धड्डठ्ठ नाम का एमिनो एसिड पाया जाता है जो दिमाग को शांत कर के अच्छी नींद दिलाने में बहुत मदद करता है. रात में दूध पीने से शरीर को इस में मौजूद कैल्शियम लेने में आसानी होती है.

मसल्स या बौडी बनाना चाहते हैं तो रात में दूध पीना चाहिए. दूध में मौजूद प्रौटीन इस से ज्यादा फायदा देता है. अगर वजन बढ़ाना हो तो दिन में दूध पीने की सलाह दी जाती है.

अगर दूध को पचाने में दिक्कत हो तो इसका सेवन सुबह के समय करना चाहिए. हालांकि ऐक्सरसाइज के बाद सुबह दूध पीने से एसिडिटी हो सकती है.

जिन लोगों को लैक्टोज से एलर्जी है और अकसर कब्ज, अपचन और गैस की समस्या रहती है उन्हें खाली पेट दूध का सेवन बिलकुल नहीं करना चाहिए क्योंकि दूध पचने में थोड़ी देर लगती है और हमारे पाचन तंत्र को ज्यादा मेहनत करनी पड़ती है.

दूध ठंडा या गरम: अकसर लोगों को यह समझ नहीं आता है कि गरम दूध पीना सेहतमंद होता या फिर ठंडा.

इस प्रश्न का उत्तर है, दूध हमेशा हलका गरम ही पीना चाहिए. ठंडा दूध ठीक से पच नहीं पाता जिस की वजह से दूध में मौजूद पोषक तत्त्वों का पूरा फायदा हमारे शरीर को मिल ही नहीं पाता.

ये भी पढ़ें- जानें, सुबह में क्यों जरूरी है पानी पीना

दूध किन चीजों के साथ मिला कर पीने से क्या फायदे और नुकसान है?

दूध हमें जीवित प्राणी से मिलता है इसलिए इस में हार्मोंस, एंजाइम्स और ऐमीनो एसिड की मात्रा अधिक होती है इसलिए दूध ज्यादातर खाने के साथ केमिकल रिएक्शन भी जल्दी करने लगता है जिस से दूध ठीक से पच नहीं पाता और दूध से मिलने वाले फायदे भी जीरो हो जाते हैं.

दूध एक वक्त के खाने के बराबर होता है इसलिए अगर खाना खाने के तुरंत बाद दूध पी लेते हैं तो इस का मतलब है एक ही समय में दो वक्त का खाना. खाना खा लेना, जिस से भारीपन, एसिडिटी, पेट फूलना और अपचन जैसी समस्या शुरू होने लगती है. अत: खाना खाने के 2 घंटे बाद और सोने से आधे घंटे पहले दूध पीएं. दूध के साथ, पहले या बाद में खट्टे फल, नमकीन और ज्यादा चटपटी चीजों का सेवन बिलकुल नहीं करना चाहिए.

दूध के साथ दही का सेवन करने से पाचन क्रिया में समस्या आ जाती है. दही में लाक्टोबेसिलेस नाम का बैक्टीरिया दूध को दही में जमाता है और जब हम दूध और दही का एक साथ सेवन कर लेते है तो दूध के दही जमने की प्रक्रिया पेट में ही शुरू हो जाती है.

बैंगन और कच्चे प्याज खाने के पहले या बाद में भी दूध का सेवन करना नहीं करना चाहिए. जिन लोगों के शरीर पर कोई बड़ा जख्म है या कोईर् हाल में सर्जरी हुई हो तो ठंडा दूध का सेवन कुछ दिनों तक बिलकुल भी नहीं करना चाहिए.

ये भी पढ़ें- कही आप भी तो नहीं हैं पीसीओडी की शिकार, ऐसे करें पहचान…

जिन्हें रुड्डष्ह्लशह्यद्ग से एलर्जी या चेहरे पर एक्नेंव पिंपल की समस्या है उन्हें दूध कम मात्रा में लेना होता है.गाय और भैंस के दूध में अंतर, भैंस के दूध में गाय के दूध के मुकाबले फैट और कैलोरीज दोनों ही ज्यादा होते हैं. इसलिए जो लोग वजन बढ़ाना चाहते हैं उन्हें भैंस का ही दूध पीना चाहिए.

गाय के दूध में फैट कम मात्रा में होता है. इसलिए पचने में आसान होता है. सेहत और ताकत के नजरिए से भी गाय का दूध काफी अच्छा होता है. इसलिए जो लोग वजन बढ़ाना नहीं चाहते बल्कि वजन घटना चाहते हैं तो उन्हें गाय के दूध का सेवन करना चाहिए.

हलदीयुक्त दूध पिएं

दूध में थोड़ी सी हलदी मिलाते हैं तो इस के एंटी इंफ्लामेटरी, जीवाणुरोधी, और उपचार शक्तियों के कारण दूध की शक्ति को और अधिक बढ़ावा मिल सकता है. दर्द और सूजन को कम करने में मदद मिलती है, जिस से यह रूमेटोइड (ह्म्द्गह्वद्वड्डह्लशद्बस्र) या पुरानी पीड़ा जैसी सूजन संबंधी बीमारियों वाले व्यक्ति के लिए फायदेमंद हो जाता है.

ये भी पढ़ें- जानें, खुश और जवान रहने के लिए कुत्ता पालना क्यों है जरूरी

 किरण आहूजा

Tags:
COMMENT