लेखक-डा. रश्मि यादव

पपीता सभी जगह मिलने वाला सदाबहार फल है, पर पेड़ से टूटने के बाद ज्यादा दिनों तक इसे ताजा नहीं रखा जा सकता. ताजा पपीता ही सेहत के लिए अच्छा होता है. इस समय मौसम में हो रहे बदलाव के कारण आंधीपानी के चलते कच्चे पपीते टूट कर गिर जाते हैं. ग्रामीण क्षेत्रों में कच्चे पपीते के उपयोग की जानकारी न होने की कमी में लोग पपीते को फेंक देते हैं. ऐसा न करें, क्योंकि कच्चा पपीता भी हमारी सेहत के लिए लाभकारी होता है,

इसलिए इस का मूल्यसंवर्धन कर संरक्षित करें. पपीता में पकने की अवधि जैसजैसे बढ़ती है, वैसेवैसे इस में विटामिन सी की मात्रा बढ़ती जाती है. वैज्ञानिक शोध के मुताबिक, कच्चे पपीते में विटामिन सी 40 से 90 मिलीग्राम, अधपके पपीते में विटामिन सी 50 से 90 मिलीग्राम और पके पपीते में 60 से 140 मिलीग्राम तक विटामिन सी बढ़ जाता है. इस में शर्करा और विटामिन सी मई से अक्तूबर तक अधिक होता है. पपीते से विभिन्न खाद्य पदार्थ बनाए जाते हैं,

ये भी पढ़ें-घर पर ऐसे बनाएं आम का मुरब्बा और जैम

 

जैसे पके पपीते से जैम और जैली बनाए जाते हैं, वहीं कच्चे पपीते से चटनी, सब्जी आदि बनाई जाती हैं. यहां पर हम आप को कच्चे पपीते की चटनी बनाने के बारे में जानकारी दे रहे हैं :

ये भी पढ़ें- बारिश के मौसम में बाजरे से बनाएं ये 4 टेस्टी डिश

बनाने की विधि

* पपीते को धो कर छील लें और उसे कद्दूकस कर लें. कद्दूकस किए पपीते को नमक के पानी में मुलायम होने तक पकाएं.

साथ ही मिलेगी ये खास सौगात

  • 5000 से ज्यादा फैमिली और रोमांस की कहानियां
  • 2000 से ज्यादा क्राइम स्टोरीज
  • 300 से ज्यादा ऑडियो स्टोरीज
  • 50 से ज्यादा नई कहानियां हर महीने
  • एक्सेस ऑफ ई-मैगजीन
  • हेल्थ और ब्यूटी से जुड़ी सभी लेटेस्ट अपडेट
  • समाज और राजनीति से जुड़ी समसामयिक खबरें
Tags:
COMMENT