शादी के बाद जब पतिपत्नी एकसाथ अपने अंतरंग क्षणों में होते हैं तो उस समय उन के बीच जिस्म प्रधान होता है, एकदूसरे को पाने की इच्छा, एकदूसरे में खो जाने की चाहत होती है. उस समय दिल है कि मानता नहीं वाली हालत होती है. वे दोनों दीनदुनिया से बेखबर हो कर, बस, एकदूसरे में आकंठ डूबे रहना चाहते हैं. एकदूसरे के जिस्म के प्रति आकर्षण तो होता ही है, साथ ही होता है समर्पण का भाव. फिर धीरेधीरे जीवन यथार्थ पर आता है.

जीवन में बच्चे आते हैं, जिम्मेदारियां बढ़ने लगती हैं. प्यार व समर्पण धीरेधीरे हवा होने लगता है. ऐसे में अपने प्यार को बचाए रखना दोनों के लिए ही चुनौती होती है. समझदार दंपती इस दौर में भी अपनी भावनाओं को समाप्त नहीं होने देते और सैक्सुअल जीवन का आनंद लेते रहते हैं.

60 वर्ष की उम्र तक आतेआते तो अधिकांश जोड़े घरगृहस्थी में इतना रम जाते हैं कि उन का सैक्सुअल जीवन समाप्तप्राय हो जाता है. वे पारिवारिक जिम्मेदारियों में इस कदर डूब जाते हैं कि अपने सैक्ससुख के बारे में तो उन्हें सोचने का वक्त ही नहीं मिलता. कुछ तो इस उम्र तक दादादादी और नानानानी भी बन जाते हैं और मन में भाव आ जाता है कि अब इस उम्र में क्या सैक्ससुख भोगना.

परंतु जिस तरह पेट की भूख के लिए खाने की जरूरत होती है उसी तरह जिस्म की भूख को शांत करने के लिए सैक्स की जरूरत होती है. कई बार जब दोनों में से किसी की भी घर में संतुष्टि नहीं हो पाती तो वे बाहर का रुख करते हैं.

साथ ही मिलेगी ये खास सौगात

  • 5000 से ज्यादा फैमिली और रोमांस की कहानियां
  • 2000 से ज्यादा क्राइम स्टोरीज
  • 300 से ज्यादा ऑडियो स्टोरीज
  • 50 से ज्यादा नई कहानियां हर महीने
  • एक्सेस ऑफ ई-मैगजीन
  • हेल्थ और ब्यूटी से जुड़ी सभी लेटेस्ट अपडेट
  • समाज और राजनीति से जुड़ी समसामयिक खबरें
COMMENT