जिंदगी में कई दफा हम ऐसे किसी शख्स से प्रेम कर बैठते हैं जो हमारे लिए बना ही नहीं है. दो विपरीत स्वभाव के व्यक्ति कुछ समय तक तो साथ निभा सकते हैं मगर वह रिश्ता हमेशा कायम नहीं रह पाता. सिर्फ सामने वाले के आकर्षक व्यक्तित्व से प्रभावित हो कर दिल दे बैठना आप के अपने भविष्य के लिए खतरनाक साबित हो सकता है क्यों कि इस दुनिया में ज्यादातर लोग एक मुखौटा लगाकर रहते हैं और समय आने पर जब मुखौटा उठता है तो व्यक्ति खुद को ठगा हुआ सा महसूस करता है. किसी के साथ रिश्ता जोड़ने से पहले उस शख्स के असली चेहरे को जरूर परखें. कुछ तरीके जिन्हें आप भी आसानी से आजमा सकती हैं.

  1. कितना ईमानदार है वह

सामान्यतः  दो तरह की ईमानदारी परखनी जरुरी होती है. एक तो यह कि वह अपने रिश्तों के प्रति कितना ईमानदार है और दूसरा रुपए पैसों के मामले में कैसा है. जब बात रिश्तों की आती है तो व्यक्ति के स्वभाव को समझना जरूरी हो जाता है.

वह अपने रिश्ते को ले कर कितना ईमानदार है यह जानने के लिए ध्यान दें कि वह दूसरी खूबसूरत लड़कियों के सामने कैसे पेश आता है? उन के सामने आप को कितनी अहमियत देता है? क्या उस की निगाहें हर खूबसूरत लड़की की तरफ घूम जाती हैं? क्या वह हमेशा दूसरी लड़कियों को  इंप्रेस करने के चक्कर में लगा रहता है? उन के आगे ज्यादा ही शालीनता और बुद्धिमानी के प्रदर्शन का प्रयास करता है और क्या वह छोटीछोटी बातों पर झूठ बोल जाता है? क्या फोन पर धीरेधीरे बातें करता है और बात करते वक्त अक्सर आप से दूर चला जाता है?  क्या आप को उस की आंखों में स्थिरता और गंभीरता नजर आती है? क्या खुल कर अपने दोस्तों, रिश्तेदारों या घरवालों से आप को मिलाना पसंद करता है या किसी उलझन में  फंसा नजर आता है? क्या उस ने अपने अतीत के बारे में आप से सब कुछ बताया है या वह बातें छुपाता है? इन बातों से आप अंदाजा लगा सकती हैं कि भविष्य में उस के साथ आप का रिश्ता कैसा रहेगा.

रिश्तों के साथसाथ रुपए पैसों से जुड़ी ईमानदारी भी अहम है. आप किसी बहाने उसे कुछ रुपए इन्वेस्ट करने के लिए या उधार के रूप में दे कर देखें. क्या वह याद कर के आप के रुपए आप को वापस करता है? यहां बात 5 सौ , 5 हजार या 5 लाख की नहीं वरन उस की ईमानदारी की है. यदि वह अक्सर रुपए लौटाना भूल जाता है तो समझिये मामला गड़बड़ है. उस पर विश्वास नहीं किया जा सकता. जो इंसान रुपयों के मामले में ईमानदार नहीं उस से भला रिश्तों  के मामले में ईमानदारी बरतने की उम्मीद भी कैसे की जा सकती है?

  1. क्या वह आप का सम्मान करता है

ध्यान दीजिए कि क्या वह दूसरों के आगे आप की इज्जत की परवाह करता है या फिर कहीं भी, कभी भी आप से ऊंची आवाज में बातें करने लगता है? आप को गलत साबित करने की कोशिश करता है?  क्या वह दूसरों के आगे छोटी सी बात पर भी आप का मजाक उड़ा देता है या अपनी बात को ऊंचा रखने की कोशिश में लगा रहता है?

ऐसा व्यक्ति कतई आप के लायक नहीं हो सकता. जो शख्स दूसरों के आगे आप का सम्मान बरकरार रखे, आप के साथसाथ आप के परिवार वालों की इज्जत करे, आप की आंखों में आंसू न देख सके और हमेशा आप को आगे बढ़ने को प्रेरित करे, आप की सफलता पर खुश हो और आप के परेशान होने पर हर संभव मदद करने को तैयार रहे , वही आगे चल कर  आप के लिए बेहतर साथी बन सकता है.

  1. कितनी कंपैटिबिलिटी है आप दोनों में

आप एकदूसरे के साथ कितने सहज हैं?  एकदूसरे को कितना समझते हैं, इस बात पर ध्यान जरूर दें. जब प्यार नया नया होता है तब तो सामने वाला शख्स आप की हर बात मानता ही है. पर थोड़ा समय गुजरने के बाद धीरेधीरे हकीकत सामने आती है.

वह आप का कितना ख्याल रखता है यह जानने के लिए एक साथ कहीं सफर पर जा कर देखें. आप उस के व्यवहार को निकट से पढ़ सकेंगे. सफर के दौरान आप को काफी वक्त साथ गुजारना होता है. अनजान जगह पर एक साथ चलते हुए आप उस के  व्यवहार को निकट से परख सकेंगी.

आप के और दूसरों के साथ उस का  व्यवहार  नोटिस कर सकेंगी. प्लेन / ट्रेन में  बर्थ सिलेक्शन से ले कर होटल और डेस्टिनेशंस चुनते वक्त आप नोटिस कर सकती हैं कि आप का साथी आप की पसंद को कितना तवज्जो देता है. आप दोनों एक तरह की सोच रखते हैं या फिर मतभेद हो रहे हैं? मतभेद होने पर क्या वह समझौता करने को तैयार होता है या अपनी मर्जी चलाना चाहता है? ऐसी बातें आगे जा कर रिश्ते टूटने की मुख्य वजह बनती है.

सफर के दौरान उस की मनी हैंडलिंग करने की आदत भी आप परख सकेंगी. आप का पार्टनर कितना रोमांटिक है ,वह भीड़भाड़ वाली जगह पसंद करता है या एकांत जगह पर आप के और प्रकृति के निकट रह कर खुश है? क्या वह बाहर जा कर भी कामकाज की बातों में लगा हुआ है? आप की बजाय फोन कौल्स या बिजनेस चैटिंग में ज्यादा वक्त लगा रहा है? यदि ऐसा है तो समझ जाइए कि अभी यह हाल है तो भविष्य में वह आप को कितना इग्नोर करेगा.

ऐसी कितनी ही छोटीछोटी बातें हैं जो इंसान को परखने के काम आती हैं .

Tags:
COMMENT