परिवार 46 साल के कलाकार सिद्धांत वीर सूर्यवंशी को जिम में वर्कआउट करते समय हार्टअटैक आ गया जिस से उस की मौत हो गई. इस के पहले कलाकार सिद्धार्थ शुक्ला और कौमेडियन राजू श्रीवास्तव की मौत भी कुछ इसी तरह से हो चुकी है. जब हम हादसों की बात करते हैं तो केवल ऐक्सिडैंट का ही खयाल आता है. आज हादसों की परिभाषा बदल गई है. अब घर और जिम में ऐसे ही हादसे होने लगे हैं, जिन में अच्छाखासा आदमी हलकी सी दिक्कत में पड़ते ही गुजर जा रहा है.

कोविड के बाद ऐसे हादसे ज्यादा ही बढ़ गए हैं. इन को कोविड का प्रभाव भी माना जा रहा है. डेंगू, टायफाइड और चिकनगुनिया जैसी बीमारियों में भी तमाम लोगों की जानें चली गई हैं. इस के साथ ही साथ दुर्घटनाओं के कारण भी मरने वालों की संख्या में तेजी आ गई है. हंसीखेल करतेकरते लोग गुजरात के मोरबी पुल जैसे हादसे में मौत के शिकार हो जा रहे हैं. इस तरह की अचानक होने वाली मौत का प्रभाव घरपरिवार पर बहुत ज्यादा पड़ता है. अगर मरने वाला घर का कमाई करने वाला होता है, तब दिक्कतें अधिक होती हैं. पहले के समय में ऐसे हादसे कम होते थे. इस कारण परिवारों पर इस का दबाव कम पड़ता था. आज के समय में ऐसे हादसे अधिक होने लगे हैं.

परिवार छोटे होने लगे हैं. इस की वजह से संकट के समय मदद करने वाले नहीं मिलते. कई बार तो हादसों में पूरेपूरे परिवार ही खत्म हो जाते हैं. परिवारों को कुछ प्रयास ऐसे करने चाहिए जिन से वे ऐसे हादसों से खुद को बचाए रख सकें. इस के लिए भीड़भाड़ वाली जगहों पर कम जाएं. मंदिरों और मेलों में ऐसे हादसे अधिक होते हैं, उन से बचें. अपनी सेहत के प्रति लापरवाह न रहें. यह मान कर चलें कि अगर ऐसे हादसे हो जाते हैं तो कैसे उन से निबटें. अस्पताल के खर्चे भी कम नहीं होते.

आगे की कहानी पढ़ने के लिए सब्सक्राइब करें

डिजिटल

(1 साल)
USD10
सब्सक्राइब करें

डिजिटल + 24 प्रिंट मैगजीन

(1 साल)
USD79
सब्सक्राइब करें
और कहानियां पढ़ने के लिए क्लिक करें...