हर व्यक्ति का कोई बेस्ट फ्रेंड तो होता ही हैं, जिसके साथ वह अपने दिल की सारी बातें शेयर करता हैं और खुशी और गम दोनों में उसे याद करता हैं. ऐसे कई मौके आते हैं जब उसे रिश्तों के बीच में चुनाव करना होता है तो वह अपने बैस्ट फ्रैंड का चुनाव करता हैं. लेकिन क्या आप जानते हैं कि लड़कों के लिए उनके बेस्ट फ्रेंड क्यों इतने जरूरी होते हैं.

आज हम आपको बताने जा रहे हैं इसके पीछे के कारण के बारे में कि क्यों लड़कों के लिए गर्लफ्रेंड से ज्यादा दोस्त मायने रखते हैं.

हर माहौल में रहते हैं फिट

गर्लफ्रैंड के साथ घूमने जाना हो तो पहले सो बातें सोचनी पड़ती लेकिन दोस्तों के साथ जाना हो तो किसी बात की कोई टेंशन नहीं होती क्योंकि दोस्त जिम्मेदारी नहीं बल्कि साथ बनकर जाते है.

ये भी पढ़ें- रिश्ते में न रखें ये उम्मीदें वरना टूट सकता है आपका रिश्ता

इंप्रेस करने का कोई झंझट नहीं

रिलेशन नया हो या पुराना, गर्लफ्रैंड को इम्प्रेस करने के लिए हर बार नया बहाना ढूंढना पड़ता है लेकिन दोस्तों के साथ ऐसा कुछ नहीं होता. दोस्त हमसे कोई खास मुम्मीद ही नहीं लगाते. दोस्ती एक ऐसा रिश्ता है, जिसमें कोई नाराजगी की जगह नहीं होती.

अहम फैसले लेने में मदद

जिंदगी में कई ऐसे मोड़ आते हैं, जहां हमें अहम फैसला लेना पड़ता. ऐसे में किसी की सलाह लेनी पड़ती तो वह दोस्त ही होते है, जिनसे हम अपनी जिंदगी से जुड़े अहम किस्सों को सांझा कर लेते है और वह कई बार पूरा साथ भी देते है.

ये भी पढ़ें- जब बुढ़ापे में हो जाए प्यार

कोई कमिटमेंट नहीं

दोस्ती में कमिटमेंट जैसा कोई शब्द ही नहीं होता. जबकि गर्लफ्रैंड के साथ इस टॉपिक पर हमेशा डिसकशन हो जाता है.

मिलने से पहले लुक देखना

अगर गर्लफ्रैंड मिलने बुलाए तो सबसे पहले अपने लुक पर ध्यान देना पड़ता. कहीं गर्लफ्रैंड बेसती न कर दें. वहीं कहीं दोस्त बुलाए तो हम ऐसे ही मुंह उठाकर निकल पड़ते है क्योंकि वो कौन-सा लुक पर ध्य़ान देते है.

ज्यादा वक्त नहीं मांगते दोस्त

दोस्तों के साथ हम जितना वक्त बिताना चाहे बिता लेते है, वह कभी कोई शिकायत नहीं करते कि याद तू हमे बुलाता ही नहीं है. वहीं अगर गर्लफ्रैंड को एक दिन भी टाइम न दे पाए तो सो बातें सुननी पड़ती है.

ये भी पढ़ें- बच्चों को रोज सुनाएं कहानी

Tags:
COMMENT