चाहे प्रेम और विरह के अलावा शादी-ब्याह का अवसर हो या पर्व-त्योहारों का, हरेक मौके के लिए उन्होंने गीत गाए हैं. उनके गीतों के बगैर कोई भी ब्याह और पर्व पूरा हो ही नहीं सकता है. जर्मनी, बेल्जियम, हालैंड, सूरीनाम, मारीशस, मिस्र आदि कई देशों में भोजपुरी और मैथिली लोक गीतों का परचम लहराने वाली मशहूर लोक गायिका साफ लहजे में कहती हैं कि बाजार में बिकने के लिए ‘बाजारू’ होना जरूरी नहीं है. अच्छी और दिल से निकली कला ही बिकती हैं और वही लंबे समय तक लोगों के दिलों में जिंदा रहती हैं. ‘लोक संगीत में धरती गाती है, पहाड़ गाते हैं, नदियां गाती हैं, पफसलें गाती हैं, ऋतुएं गाती हैं. इसका कोई ओर-छोर नहीं है.’ यह कहते हुए उनकी आंखें चमक उठती हैं. बिहार कोकिला कही जाने वाली पद्मश्री शारदा सिन्हा ने लोक गीतों को घर-घर पहुंचा दिया है.

COMMENT