आने वाले समय में अगर आप कैंसर, एड्स या ब्रेन ट्यूमर जैसी लाइलाज बीमारी के शिकार होंगे तो आप बेखौफ हो कर डाक्टर के पास जाएंगे और उसे अपनी बीमारी के बारे में बताएंगे. डाक्टर भी आप की बात शांति से सुनेगा और आप को कुछ दिनों के लिए अस्पताल में एडमिट हो जाने की सलाह देगा. आप बड़े सुकून से घर की ओर रवाना होंगे और घर वालों को डाक्टर के साथ हुई बातचीत के बारे में बताएंगे. घर वालों को आप की बीमारी के बारे में मालूम है लेकिन वे बिलकुल शांत हैं, उन्हें मालूम है कि यह कोई बड़ी बात नहीं. आप एक छोटे से औपरेशन के बाद पूरी तरह ठीक हो जाएंगे.

जी हां, यह सब शेखचिल्ली की खयाली बातें नहीं बल्कि आने वाले सालों में मैडिकल साइंस की तसवीर है, जिस में आज के दौर की लाइलाज बीमारियों को बेहद आसान इलाज से खत्म किया जा सकेगा. यह सब मुमकिन होगा और इसे मुमकिन बनाने में विशेष भूमिका होगी ‘स्टैम सैल’ की. जी हां, हम उन्हीं स्टैम सैल की बात कर रहे हैं जिन के बारे में पिछले कई सालों से कई किस्म के समाचार और उन से जुड़ी खोजों की खबरें सुनने और देखने को मिलती रही हैं.

स्टैम सैल का योगदान अब मैडिकल साइंस के क्षेत्र में सिर्फ खबरों तक ही सीमित नहीं रह गया है बल्कि इस से अंगों के प्रत्यारोपण संबंधी कामों को सफलतापूर्वक अंजाम दिया जाने लगा है.

ये भी पढ़ें- मच्छर हैं कि भागते नहीं

स्टैम सैल के जरिए मैडिकल साइंस के क्षेत्र में कई ऐसे कामों को अंजाम दिया जाने लगा है जिन के बारे में आज से तकरीबन 50 वर्ष पहले तक कल्पना भी नहीं की जा सकती थी. स्टैम सैल से अब कटे हुए अंगों को दोबारा विकसित किया जा रहा है.

साथ ही मिलेगी ये खास सौगात

  • 5000 से ज्यादा फैमिली और रोमांस की कहानियां
  • 2000 से ज्यादा क्राइम स्टोरीज
  • 300 से ज्यादा ऑडियो स्टोरीज
  • 50 से ज्यादा नई कहानियां हर महीने
  • एक्सेस ऑफ ई-मैगजीन
  • हेल्थ और ब्यूटी से जुड़ी सभी लेटेस्ट अपडेट
  • समाज और राजनीति से जुड़ी समसामयिक खबरें
Tags:
COMMENT