बदलती लाइफ स्टाइल ने हमारे दिल के लिए खतरा बढ़ा दिया है. जीवनशैली व खानपान में बदलाव जहां लोगों को हृदय संबंधी रोगों के करीब पहुंचा रहा है वहीं वैवाहिक जीवन में मनमुटाव और मनमुताबिक नौकरी नहीं मिलने या काम का अधिक प्रैशर हार्ट अटैक का कारण बन रहा है. डब्लूएचओ की रिपोर्ट के अनुसार वर्ष 2020 तक कार्डियोवैस्कुलर बीमारियां देश में मौत की सब से बड़ी वजह बन जाएंगी. मुंबई के लीलावती और नानावटी अस्पताल से जुड़े जानेमाने हार्ट सर्जन डा. पवन कुमार अपना अनुभव बांटते हुए कहते हैं कि हर साल पूरे विश्व में दिल के रोग से 17 मिलियन लोग प्रभावित होते हैं.

Digital Plans
Print + Digital Plans
Tags:
COMMENT